एनडीटीवी ने यूट्यूब के प्रतिबंध की चादर ओढ़ी

4
749

चोरी छुपाने की जुगत में एनडीटीवी NIDHI KULPATI , NDTV

एनडीटीवी ने कमर कस ली है. न न न किसी बड़ी खबर या किसी बड़े स्टिंग के लिए नहीं, बल्कि कांग्रेस स्टाइल में अपनी चोरी को छुपाने के लिए.

चोरी ऐसी जो दर्शकों ने पकड़ी और गवाही खुद एनडीटीवी इंडिया के स्क्रीन ने दी. कल मीडिया खबर.कॉम पर एक खबर ‘एनडीटीवी की चोरी पकड़ी गयी’ शीर्षक से छापी गयी थी. उसमें यूट्यूब के सौजन्य से एक वीडियो भी डाला गया था.

वीडियो में स्क्रीन के पीछे से कोई एंकर निधि कुलपति को संदेश देता हुआ कहता है कि कांग्रेस को डिफेंड कर दो. यह बात लाखों दर्शकों ने सुनी. कुछ जागरूक दर्शकों ने इसे यूट्यूब पर भी अपलोड कर दिया और फिर पत्रकारिता का दंभ भरने वाले एनडीटीवी की चारो तरफ थू – थू होने लगी. क्योंकि इस वीडियो को और इससे संबंधित खबर को लगातार शेयर किया जा रहा था.

 

अब इसे रोकने के लिए एनडीटीवी ने कॉपीराइट नियमों का हवाला देकर यूट्यूब से वीडियो को हटाने की मांग की और अंधे यूट्यूब ने ऐसा कर भी दिया. अब जब ये वीडियो खोलते हैं तो अँधेरा पर्दा सामने आता है जिसमें लिखा हुआ है – ‘This video is no longer available due to a copyright claim by NDTV.’

मतलब साफ़ है कि अपनी चोरी को छुपाने के लिए एनडीटीवी ने यूट्यूब के प्रतिबंध की चादर ओढ़ ली है. लेकिन क्या चादर ओढने से असलियत छुप जाएगी? कांग्रेस के प्रति एनडीटीवी की वफादारी ये रहा वीडियो, जो ब्लाक कर दिया गया. हालाँकि फर्स्ट पोस्ट पर लगी वीडियो चल रही है. लेकिन उसके लिए 15 – 20 इंतजार करना पड़ता है क्योंकि वह 37 मिनट का वीडियो है. :



4 COMMENTS

  1. // वीडियो में स्क्रीन के पीछे से कोई एंकर निधि कुलपति को संदेश देता हुआ कहता है कि एनडीटीवी को डिफेंड कर दो //एनडीटीवी नहीं कांग्रेस को डिफेंड कर दो

  2. जब से पंकज पचौरी पी.एम्.ओ. में गए हैं, एन.डी. टी.वी. पूरी तरह से कांग्रेसी चैनल बन गया है ! कुटनीतिक तरीके से कांग्रेस का मुखपत्र ! कहीं ऐसा तो नहीं कि एक विशेष रणनीती के तहत पंकज पचौरी ने पी.एम्.ओ. ज्वाइन किया है ? ताकि पी.एम्.ओ.के रुतबे से एन.डी. टी.वी. को आर्थिक सहूलियत मिलती रहे और सरकार को एन.डी. टी.वी. की तरफ से समर्थन ! इसकी जांच होनी चाहिए !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

5 × two =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.