नरेंद्र मोदी किसी महिला से मिले नहीं कि उसे लेकर चुटकुलेबाजी शुरू हो जाती है

0
642
नरेंद्र मोदी किसी महिला से मिले नहीं कि उसे लेकर चुटकुलेबाजी शुरू हो जाती है
नरेंद्र मोदी किसी महिला से मिले नहीं कि उसे लेकर चुटकुलेबाजी शुरू हो जाती है

नरेंद्र मोदी किसी महिला से मिले नहीं कि उसे लेकर चुटकुलेबाजी शुरू हो जाती है
नरेंद्र मोदी किसी महिला से मिले नहीं कि उसे लेकर चुटकुलेबाजी शुरू हो जाती है
सोशल मीडिया पर मैं अक्सर देखता हूँ कि नरेंद्र मोदी किसी महिला से मिले नहीं कि उसे लेकर चुटकुलेबाजी शुरू हो जाती है..उनके अकेले होने का मज़ाक उड़ाया जाता है, मसखरी की जाती है.

एक प्रधानमंत्री के नाते आप उनकी नीतियों की,विचारधारा की,फैसले की जमकर आलोचना कीजिये लेकिन किसी के अकेले होने, अविवाहित होने,तलाकशुदा होने,परित्यक्ता होने का उपहास उड़ाना सिर्फ नैतिकता के आधार पर गलत नहीं,मानवाधिकार का उल्लंघन है..और अफ़सोस कि ऐसा करने में एक से एक प्रोग्रेसिव लोग शामिल है..

कई बार उन पर नरेंद्र मोदी इतने हावी होते हैं कि वो ये भूल जाते हैं कि वो आलोचना के नाम पर वही तंग नजरिया पेश कर रहे हैं जिसके लिये वो दूसरों को कोसते हैं..आपको पब्लिक स्फीयर में किस करने की आज़ादी चाहिये जो कि बेहद ज़रूरी है तो क्या किसी को अपनी ज़िन्दगी अपने तरीके से चुनने का हक़ नहीं है ?

और नरेंद्र मोदी के साथ की महिला के साथ आपकी क्या समझ होती है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 + two =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.