शाज़ी ज़मां साहब, भीतरघात या भितरघात?

0
666
शाज़ी ज़मां साहब, वो 'भितरघात' होता है.
शाज़ी ज़मां साहब, वो 'भितरघात' होता है.

संपादक जी सुनिए –

शाज़ी ज़मां साहब, वो ‘भितरघात’ होता है.

गलत – भीतरघात

सही  – भितरघात

शाज़ी ज़मां साहब, वो 'भितरघात' होता है.
शाज़ी ज़मां साहब, वो ‘भितरघात’ होता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

nine − 8 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.