जिस संस्थान के लिए खून-पीसना एक किया, उसने रोड पर ला खड़ा किया

0
922

CNN – IBN और IBN-7 में हुई छंटनी के बाद दोस्त के लिए व्यथित नवीन :

Navin Dewangan : मीडिया का सेवक होने के नाते आज का दिन काफी निराशाजनक रहा हांलाकि इस बात की पिछले कुछ दिनों से चर्चा जरुर हो रही थी कि एक बडे मीडिया संस्थान से छटनी की तलवार चलने वाली है पर आज उस तलवार की चपेट में आए मेरे मित्रों के बारे में सोच – सोच कर जी भर आता है.

इसी तलवार से घायल मेरे एक मित्र के बारें में क्या कंहू बेचारा शब्द इस्तेमाल करना उसकी व्यक्तिव के साथ नाइंसाफी होगी. मिलनसार जी तोड-मेहनती और लाख टके का इमानदार.

कुछ साल पहले आंखों मे सपनें लिए वह दिल्ली पहुंचा. रात दिन एक कर देश के जाने माने ख़बरिया चैनल मे अपनी जगह बना भी ली. इमानदारी से काम करता गया. पर आज अचानक आए उसके एक फोन ने झकझोर दिया.

6 साल की बिटियां है बहुत बीमार रहती है घर में बूढें मां-बाप का इकलौता सहारा है. पर वो आज बेरोजगार है कलम और तलवार की लडाई मे वो हार गया है.

पूरी जवानी रात – रात भर जिस संस्था के लिए उसने खून पसीना एक किया उसी संस्था नें उसे रोड पे लाने पे कोई कसर नहीं छोडी. रात दिन अन्याय के खिलाफ कलम घसीटते घसीटते खुद इसका शिकार हो गया.

अफसोस तो इस बात की है कि है अगर शैशव अवस्था में ही इस बुद्धु बक्सें वाले मीडिया के ऐसे ही हालात रहें तो ये कहना मुश्किल है कि शायद ही ये अपनी जवानी देख पाए..

(फेसबुक से साभार)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.