अरे पगलऊ पत्रकार राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का देश के नाम संदेश रिकॉर्डेड ही होता है

0
927
अमित गर्ग शुक्ला
अमित गर्ग शुक्ला
पीएम मोदी के लाइव को लेकर पत्रकार सत्येन्द्र मुरली की प्रेस कॉंफ्रेंस (सबसे दाहिने दिलीप मंडल और सबसे बाएं सत्येन्द्र मुरली)
पीएम मोदी के लाइव को लेकर पत्रकार सत्येन्द्र मुरली की प्रेस कॉंफ्रेंस (सबसे बाएं दिलीप मंडल और सबसे दाहिने सत्येन्द्र मुरली)




-अमित गर्ग,टीवी पत्रकार-

अमित गर्ग शुक्ला
अमित गर्ग शुक्ला

DD NEWS का एक पत्रकार है । जिसने आरक्षण का लाभ लेकर IIMC में एडमिशन प्राप्त किया । सरकारी पैसे पर पढ़ाई पूरी की । और फिर आरक्षण का लाभ लेकर दूरदर्शन में नौकरी भी हासिल कर ली । वो नोटबंदी के फैसले को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर उंगली उठा रहा है?

महोदय का कहना है 8 नवंबर को देश के नाम demonetization वाला संबोधन live नहीं recorded था । चलो मान लिया recorded था । अब बताओ ऐसा हो गया तो कौन सा प्रलय आ गया । इस बकलोल को कोई ये बताओ। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का देश के नाम संदेश recorded ही होता है । इसमें नया क्या है?

जनाब का दूसरा आरोप है । संबोधन की स्क्रिप्ट पहले ही लिखी जा चुकी थी । अरे पगलऊ इसमें भी कुछ नया नहीं है । 15 अगस्त और 26 जनवरी की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम जो संदेश आता है । उसकी स्क्रिप्ट भी पहले ही लिखी जाती है । मोदी प्रधानमंत्री हैं । तुम्हारी तरह दो कौड़ी के पत्रकार नहीं हैं । जो मुंह उठाकर कुछ भी बोलने चले आएंगे । बकलोल तुम भी तो प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्क्रिप्ट से ही पढ़ रहे थे और स्क्रिप्ट ख़त्म होने के बाद जैसे ही पत्रकारों ने सवाल पूछा तुम्हारी घिग्घी बंध गई । बोलती बंद हो गई । और पत्रकारिता का सारा ज्ञान तेल लेने चला गया ।



दरअसल इस तथाकथित बुद्धिजीवी को लगता है प्रधानमंत्री को नोटबंदी का फैसला इस बकलोल से विचार विमर्श करने के बाद लेना चाहिए था । अब देखना ये है कि महोदय काली स्क्रीन वाला चैनल ज्वॉइन करते हैं या फिर आम आदमी पार्टी की आंखों का तारा बनते हैं ।

काहे कि रायता तो इन्होंने फैला दिया है । देखिएगा अब मोदी विरोधी इनको हाथों-हाथ लेंगे । आखिर में प्रधानमंत्री जी से अनुरोध है इन संपोलों को सरकारी खर्चे पर दूध पिलाना बंद करिए । नहीं तो ये गद्दार इसी तरह से अराजकता फैलाते रहेंगे । धन्यवाद ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.