अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी की पत्रकारों ने की निंदा

0
359
journalist condeman arnab arrest

रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की महाराष्ट्र पुलिस द्वारा की गयी गिरफ्तारी की पत्रकारों ने भर्त्सना की है. पत्रकारों ने इसे मीडिया की स्वतंत्रता के लिहाज से खतरनाक माना है और अपनी असहमति जताई है. इसमें ऐसे भी पत्रकार हैं जो अर्नब की पत्रकारिता से असहमति रखते हैं. आइये जानते हैं किस पत्रकार ने क्या कहा –

राहुल देव, वरिष्ठ पत्रकार

अर्नब की गिरफ़्तारी के तरीक़े का विरोध उन की पत्रकारिता का समर्थन नहीं है। दोनों में फ़र्क़ करने का विवेक हममें होना चाहिए। अर्नब ने गंभीर पत्रकारीय अपराध किए हैं। उन पर कार्रवाई प्रेस परिषद को करनी चाहिए। लेकिन महाराष्ट्र पुलिस का इस पूरे प्रकरण में व्यवहार शुद्ध बदला लेना ही है.

रजत शर्मा, प्रधान संपादक, इंडिया टीवी

I condemn the sudden arrest of Arnab Goswami in an abetment to suicide case. While I don’t agree with his style of studio trial, I also don’t approve of misuse of state power to harass a journalist. A media Editor cannot be treated in this manner

vir sanghvi @virsanghvi

No matter whether you agree with his journalism or not, all of us should condemn the way in which the police have arrested Arnab Goswami.

रुबिका लियाकत, न्यूज एंकर, एबीपी न्यूज

अर्नब से सहमत हो न हो इस बात पर हम सब को सहमत होना ज़रूरी है कि उनके साथ जो हो रहा है वो सरासर ग़लत है। असहमति के मायने अगर गिरफ़्तारी है तो आगे आपकी बारी है।

TV9 का आधिकारिक बयान

अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को बदले की कार्यवाही बताता है। यह सीधा सीधा लोकतंत्र पर हमला है। TV9 ग्रुप के CEO @justbarundas , TV9 भारतवर्ष के न्यूज डायरेक्टर @hemantsharma360 और TV9 मराठी के एडिटर @umeshk73 ने #ArnabGoswami की गिरफ्तारी को अभिव्यक्ति की आज़ादी पर हमला बताया.

सुमेरा, न्यूज एंकर, टीवी9

#ArnabGoswami की गिरफ़्तारी अभिव्यक्ति की आज़ादी पर हमला है. #ArnabGoswami के साथ जो हुआ है वो कल किसी और के साथ होगा इसलिए इस मुद्दे पर खुल कर बोलिए।ये वक्त ये सोचने के लिए भी है कि ना जाने कितने दूर दराज़ के इलाक़ों में अलग अलग राज्यों में काम करने वाले पत्रकारों का ऐसा शोषण होता है लेकिन वो सुर्ख़ियाँ नहीं बन पाते ।

Prema Sridevi @premasridevi

I had worked wit #ArnabGoswami for 15 yrs, perhaps the only journalist to work wit him for so long. Wen it came to the way we do news, many times we hav been on opposite ends but im deeply hurt to see the way he was arrested, timing of his arrest, the vendetta being played out

Shobhaa De @DeShobhaa

No matter what you think of Arnab Goswami and his brand of “journalism”, police action against him is shocking in a democracy. Assault and intimidation by cops is not acceptable under any circumstances!
#ArnabGoswami

उमेश चतुर्वेदी Umesh Chaturvedi @uchaturvedi

National Union of Journalists (India) strongly condemns arrest of the #RepublicTVLive editor @TeamsArnab Goswami by Mumbai police. Clear cut vindictive action on behest of Maharashtra Government. Assault on Freedom of Press.

Manak Gupta @manakgupta

Arrest in a 2-3 year old case which had been closed by police itself…!! This is wrong. Plane and simple. Shows desperation #ArnabGoswami.

Navika Kumar @navikakumar

The coercive arrest of #ArnabGoswami is against the spirit of Press Freedom. A counter productive move in a Democracy. There’s one basic Tenet enshrined in our Constitution. Right to Freedom of Expression. Agree disagree but can’t compromise FoE.

Indian Digital Media Association @IndiaIDMA

Statement condemns state high-handedness used by the Maharashtra government displayed against Republic TV and Mr. Arnab Goswami. IDMA vows to fight

Anuranjan Jha

#अर्णबगोस्वामी को बिना पूर्व नोटिस, सुबह सुबह एक आतंकवादी की तरह गिरफ्तार किया जाना और घसीटकर ले जाया जाना फासिज्म का नमूना है। इस गिरफ्तारी पर वो सारे चुप हैं जो पिछले 6 साल से देश में इमरजेंसी का रोना रो रहे हैं। वो सब चुप रहेंगे क्यूं उनको #हूंबोहूंबो करने की आदत है। वो सब चुप रहेंगे जिनको #अर्णब की तरक्की पसंद नहीं है और वो सब भी चुप रहेंगे जिन्हें अगर #अर्णब कल बुलाकर अपने चैनल में नौकरी दे दें तो चुपचाप गुलगुले खा लें। ये चुप्पी खतरनाक है। सब आएँगे जद में। सरकारों को शर्म आनी चाहिए।

गिरीश पंकज

मैं मानता हूं कि आर भारत चैनल के अर्णब गोस्वामी की प्रस्तुति शालीन होनी चाहिए। बहुत अधिक उत्तेजित होकर घटनाओं के बारे में चर्चा करना गलत है। संयत स्वर में भी बात कही जा सकती है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप एक व्यक्ति को पूरी तरह से नष्ट करने पर उतारू हो जाएं।

महाराष्ट्र में मीडिया के दमन करने का जो दृश्य आज मैंने टीवी पर देखा, वैसा दृश्य इस देश की परंपरा रही है । राज्य कोई भी हो, वहाँ सरकार किसी की भी हो, अगर उसके खिलाफ है कोई लिखेगा या बोलेगा तो उसका दमन स्वभाविक है। हमारे राजनेता लोकतंत्र की बात तो करते हैं लेकिन अभिव्यक्ति का गला घोटते रहते हैं। आप जल संकट पर बात कर सकते हैं। लोक कला की दशा और दिशा पर घंटों बहस कर सकते हैं। समाज के नैतिक पतन पर आंसू बहा सकते हैं,मगर सरकार के रवैये पर निरंतर प्रहार किया, तो तुम्हारी खैर नहीं । और वही हुआ आर भारत के अर्णव गोस्वामी के साथ ।

पुलिस ने दो साल साल पहले बंद पड़े एक मामले को पुनः खोलकर अर्णव को गिरफ्तार किया है। इसके पहले हीरोइन कंगना राणावत भी महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ मुखर थी, तो हमने देखा, उसके ऑफिस को तोड़ दिया गया। आश्चर्य की बात यह है कि एक मीडिया के दामन पर बाकी मीडिया बेहद खामोश है। एक घर को जलता हुआ देखकर दूसरा घर वाला खुश हो जाय, यह भारत देश में ही संभव है।

मैंने वर्षी तक सक्रिय पत्रकारिता में भागीदारी अदा की है। रायपुर में भी यह महसूस किया है कि एक मीडिया हाउस पर कोई संकट आता है तो दूसरा मीडिया हाउस मज़ा लेता है। और जब मज़ा लेने वाले पर संकट आता है तो दूसरा मीडिया हाउस आनन्दित होता है जबकि होना यह चाहिए कि ऐसे वक्त पर सभी को एक हो कर विरोध करें। हैरत केंद्र सरकार में बैठे मंत्रियों को देखकर हो रही है । उनके निंदा वाले बयान तो जरूर आ रहे हैं लेकिन उनमें इतना आत्मबल नहीं है कि वह राज्य सरकार को लताड़ सकें। केंद्रीय गृह मंत्री महाराष्ट्र के अत्याचारी डीजीपी परमबीर सिंह पर तो कार्रवाई कर ही सकते थे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.