मेहनतकश श्वेता सिंह का अद्भुत, अकल्पनीय, अविश्वसनीय सच !

0
8431
shweta singh anchor aajtak
श्वेता सिंह, एंकर, आजतक

श्वेता सिंह को आपने टीवी के परदे पर देखा होगा, लेकिन परदे के पीछे श्वेता कितनी मेहनतकश हैं, अपने शो को लेकर वो किस हद तक जुनूनी हैं, शायद ये बात बहुत लोगों को पता नहीं है। श्वेता उन गिने चुने एंकर्स में से एक हैं, जो अपना प्रोग्राम खुद बनाती हैं, खुद गहन रिसर्च करती हैं, खुद स्क्रिप्ट लिखती हैं, खुद शूट करती हैं। गंगा पर उऩ्होंने गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक शानदार सीरीज तैयार की थी। वंदे मातरम् के दो सीजन की पूरी सीरीज उन्होंने बनाई थी। अद्भुत, अविश्वसनीय और अकल्पनीय शो श्वेता के ही दिमाग की उपज है। ये अलग बात है कि श्वेता को खुद भूतों से बहुत डर लगता है।

shweta singh anchor aajtak
श्वेता सिंह और विकास मिश्र (सम्मान समारोह में)

आजतक पर अब श्वेता एक नया शो लेकर आई हैं-ईश्वर एक खोज। ये श्वेता का अब तक का सबसे अलग, सबसे ज्यादा रिसर्च किया हुआ और चुनौतीपूर्ण शो है। ज्यादातर इतिहासकार रामायण और महाभारत को महज महाकाव्य मानते हैं, राम, लक्ष्मण, सीता या फिर कौरव-पांडव उनके लिए काल्पनिक पात्र हैं। तो क्या देश को सही इतिहास पढ़ाया गया..? रामायण और महाभारतकालीन चरित्र क्या किसी कवि के दिमाग की ही उपज थे या फिर इनका कोई ऐतिहासिक सच भी है । श्वेता का ये शो इतिहास, विज्ञान और खगोलशास्त्र के हिसाब से इसकी पूरी पड़ताल करता है।

shweta singh anchor aajtak पहला एपीसोड मैंने देखा, जिसमें 9 तरीके से साबित किया गया कि भगवान श्रीराम का जन्म कब और कहां हुआ। श्वेता का ये शो राम, हनुमान और महाभारतकालीन भारत के इतिहास को विज्ञान और खगोलशास्त्र की कसौटियों पर कसता है। देश-विदेश के नामी इतिहासकारों, वैज्ञानिकों, खगोलविदों और लेखकों की बातचीत के साथ साथ रामायण, महाभारत और पुराणों के अध्ययन के आधार पर श्वेता ने ये रोचक सीरीज शुरू की है। ईश्वर एक खोज शो आप आज रात 7 बजकर 58 मिनट पर आजतक पर देख सकते हैं। हर हफ्ते ये शनिवार की रात 9 बजकर 58 मिनट, रविवार की सुबह नौ बजे और रात 7 बजकर 58 मिनट पर देख सकते हैं। उम्मीद है कि ये शो आपको पसंद आएगा। श्वेता के हजारों-लाखों प्रशंसकों को उनका ये शो और भी मुरीद बनाएगा।
श्वेता सिंह की कुछ तस्वीरें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.