डियर मीडिया के मित्रों, 130 करोड़ लोगों की हेल्थ से जुड़ी ये खबर क्यों दबा गए?

मार्च 27, 2017 को जो हुआ, वो अपने आप में अजूबा था.. Coca Cola, India ने भारत में फूड रेगुलेटर FSSAI के साथ समझौता किया।..मतलब जिस पर निगरानी रखने का जिम्मा दिया गया था, उससे ही हाथ मिला लिए गए।.

0
2408
story on coke

डियर मीडिया के मित्रों, 130 करोड़ लोगों की हेल्थ से जुड़ी ये खबर क्यों दबा गए? क्या समझ नहीं आई थी? कोई लिखे ना लिखे, हम तो लिखेंगे, और ठोक कर लिखेगें, चढ़ा दो फांसी पर.. @

मार्च 27, 2017 को जो हुआ, वो अपने आप में अजूबा था.. Coca Cola, India ने भारत में फूड रेगुलेटर FSSAI के साथ समझौता किया।..मतलब जिस पर निगरानी रखने का जिम्मा दिया गया था, उससे ही हाथ मिला लिए गए।..मेरा माथा ठनका और अपन जुट गए स्पेशल स्टोरी में..

क्या Ministry Of Health and Family Welfare को बेसिक रुल्स नहीं मालूम थे? या मिनिस्ट्री के अफसरों ने अपने ही बॉस को बेवकूफ बना दिया? वैसे कुछ भी कहिए, Coca-Cola The Coca-Cola Company ने जिस चतुराई से भारत सरकार को बेवकूफ बनाया, वो तारीफ-ए-काबिल है..देखते है सरकार कब इस समझौते को रद्द करती है?

लेकिन आश्चर्य कि किसी मी़डिया संस्थान ने इस पर आवाज नहीं उठाई? किसी को इसमें कुछ गलत नहीं लगा? टीवी चैनल्स के न्यूजरुम में खबर की समझ की कंगाली से वाकिफ हूं,..अखबारों में अब रिपोर्टिंग नहीं, सिर्फ सूचनाएं जैसा खबरें मिलती है..वाकई क्या हम जर्नलिस्म कर रहे हैं?

आमीन.

(कोका- कोला पर स्टोरी का पहले पोस्ट में वादा था, निभाया..फिर चाहे जो हो..)

NIMISH KUMAR JOURNALIST
निमिष कुमार, वरिष्ठ पत्रकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five − two =