पाकिस्तानी क्रिकेट कमेंट्रटरों की राह पर भारतीय कमेंट्रेटर

0
235
वेद विलास उनियाल
वेद विलास उनियाल

वेद विलास उनियाल

वेद विलास उनियाल
वेद विलास उनियाल

कभी पाकिस्तानी क्रिकेट कमेंट्रटरों की इस बात पर मजाक किया जाता था कि वह केवल अपने देश के खिलाड़ियों की बढाई करते हैं। कमेंट्रेटर नहीं बल्कि एक पाकिस्तानी बनकर खेल का विवरण सुनाते हैं।

लेकिन अब भारत के क्रिकेट कमेंट्रेटर भी यही करने लगे हैं। कमेंट्री करते हुए सुना जा सकता है। मसलन, हमारे लिए इंग्लैंड ने इतना टारगेट रखा है। हम पाकिस्तान को रोक देंगे। हमारे बालर अगर सुबह के पहले स्पेल में नियंत्रण रख सके तो न्यूजीलैंड को रोका जा सकेगा। बांग्लादेश को हमें कमजोर नहीं लेना चाहिए। हमें चौकस रहना होगा… आदि आदि।

पहले कमेंट्री में ये हम हमारा शब्द नहीं सुने जाते थे। भारत पाकिस्तान, न्यूजीलैंड देश का संबोधन होता था। वही उचित भी था। कमेंट्रेटर निरपेक्ष होना चाहिए। पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी कमेंट्री करते हैं, पर याद आते हैं मनीष देव, सुरेश सरैया, ड़ा नरोत्तम पुरी। अनंत सिंतलवाड़, सुशील दोषी. रवि चतुर्वेदी। और हाकी में जसदेव सिंह। खिलाड़ी कोई कितना भी बड़ा हो, इनकी जगह नहीं ले सकता। कमेंट्री में ये लाजबाव रहे।

@fb

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 + 1 =