राहुल और मोदी की प्रचार शैली में जमीन-आसमान का अंतर

0
561

अमिताभ श्रीवास्तव

राहुल और मोदी की प्रचार शैली में एक बहुत बड़ा अंतर दिख रहा है । राहुल गरीबी में पले बढ़े नहीं है लेकिन गरीबों और आम लोगों के बीच ज्यादा ज़मीनी, स्वाभाविक और सहज उपलब्ध दिखते हैं जबकि मोदी अपने अभावग्रस्त पृष्ठभूमि और चायवाले आईडेंटिटी कार्ड को जम कर दिखाने के बावजूद अपनी रैलियों में अभी से स्वयं को प्रधानमंत्री मानकर अहंकारी स्वर में गर्वोक्तियों पर कूद-फांद जाते हैं ।

नतीजा चाहे जो भी हो लेकिन राहुल की ईमानदार कोशिशों की अनदेखी नहीं की जा सकती। केजरीवाल तो खैर अभी आम आदमी के सबसे लोकप्रिय ब्रांड एंबेसडर हैं ही। देखना दिलचस्प होगा कि राहुल और केजरीवाल मोदी को कितना घेर पाते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.