सहाराश्री ने सीधे-सीधे मीडिया को हड़काया है

0
302

ओम थानवी

देश की सर्वोच्च अदालत से लुकाछिपी का बचपना जाहिर करने वाले सुब्रत राय और किसी से नहीं, मीडिया से परेशान हैं। पूरे पन्ने का इश्तहार दे करोड़ों रुपये उछाल दिए, पर मनचाही न्यूज कहीं हासिल हुई कहीं नहीं।

वकील और डाक्टरों के घर जाने लेकिन अदालत न जा पाने वाले राय बहादुर ने पहले अदालत को ही नायाब सुझाव दिया कि वह उन्हें ‘हाउस अरेस्ट’ कर ले। दाल न गलने पर अंततः गिरफ्तारी देने की दरियादिली दिखाते (और उत्तर प्रदेश वन विभाग के शानदार अतिथि गृह में जा ठहरते) सहाराश्री ने जो बयान दिया है कि उसमें उन्होंने सीधे-सीधे मीडिया को हड़काया है:

“अगर मेरी माँ को कुछ हो जाता है तो मैं ऐसे (माँ के प्रति इस ‘कर्त्तव्य निर्वाह’ को न समझने वाले) लोगों को जिंदगी भर नहीं भूलूँगा।”

नहीं भूलूंगा से नहीं छोडूंगा जैसी ध्वनि नहीं आती? इस बंदे को हुआ क्या है? आखिर इस (धन-पगलाए) मर्ज की दवा क्या है?

(स्रोत-एफबी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven − 10 =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.