चैनलों का नारा : राम नाम की लूट है, लूट सको तो लूट लो

0
244

aajtak-shweta-ayodhyaHem Nath Mishra
मीडिया वाले जबरदस्त फॉर्म में आ गए हैं। वरिष्ठ पत्रकारों ने कमर कस ली है। जिन्हें वरिष्ठ संवादाता कहा जाता है उन्हें अयोध्या-लखनऊ भेज दिया गया है और साफ़-साफ़ शब्दों में कह दिया गया है आप जनता के दूत हैं, जाइये और अशोक सिंघल, नृत्यगोपाल दास समेत पुरे विहिप की आवाज को देश के कोने-कोने तक पहुंचाइए, ये लोग महान देशभक्त हैं, इनका कोई भी भाषण कैमरे से छूटना नहीं चाहिए। अरे लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के ठेकेदारों धिक्कार है, शर्म आती है खुद को पत्रकारिता का छात्र होते हुए। पत्रकारिता की किताबों से कोसों दूर है वास्तविकता। किसी ने समाज का ठेका ले रखा है, किसी ने राष्ट्र का, किसी ने धर्मं का, और इन ठेकेदारों का ठेकेदार बन चुका मीडिया। यकीन मानिये वो दिन दूर नहीं जब देश की एक बड़ी आबादी मीडिया के खिलाफ सड़कों पर नारे लगाते दिखाई देगी, और सही मायने में इसकी जरुरत भी आन पड़ी है।

Nadim S. Akhter

‘राम नाम की लूट है, लूट सको तो लूट लो’ ऐसा कहने वाले तो बहुत हैं लेकिन वोट बैंक लूट के मकसद से अयोध्या में गर्माई राजनीति के बीच NDTV INDIA पर ‘रवीश की रिपोर्ट’ देख रहा हूं…क्या कहूं, रिपोर्ट देखकर अभिभूत हूं, अयोध्या की सच्चाई, वहां के लोगों का दर्द और अयोध्या के बाकी मंदिरों-ऐतिहासिक तालाबों-कुंडों पर तैरते काई-उनकी दुर्दशा जैसे ये कह रहे हैं कि हमें अब मत छेड़ो…बहुत हो गया बस !!!उस पर एक ऐतिहासिक मंदिर के पुजारी का ये कहना कि जितना पैसा प्रस्तावित राममंदिर के नाम पर आ रहा है, उसमें से थोड़ा इस मंदिर और यहां के बाकी मंदिरों पर भी खर्च कर दिया जाता तो क्या राम खुश नहीं होते???…क्या राम सिर्फ उसी मंदिर में बसते हैं???…इस मंदिर और बाकी के मंदिरों में राम नहीं बसते क्या…वहां के राम और यहां के राम से अलग कैसे हैं?????

रवीश की रिपोर्ट देखकर मन में ये ख्याल आ रहा है कि कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार और सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी इस रिपोर्ट को ndtv india वालों से उधार लेकर सरकारी प्रचार का हिस्सा बना दे…इस रिपोर्ट को हर चैनल और देश के हर गांव में दिखाया जाए…आपको कुछ कहने की जरूरत नहीं, जो आप देखेंगे, वह ये बताने के लिए काफी होगा कि अयोध्या और भगवान राम की फिक्र किसी को नहीं…कुछ दक्षिणपंथी संगठनों और यूपी की समाजवादी पार्टी की सरकार के सहयोग से जो चलचित्र चलाया-दिखाया जा रहा है, उसके खलनायकों की करतूत देश के लोगों के सामने थोड़ी और साफ हो जाएगी.
(फेसबुक से साभार)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

11 − 8 =