पी7 के कर्मचारी फिर बैठे धरने पर,आर-पार की लड़ाई

0
257

वो देंगे तो हटेंगे, नहीं तो यहीं पर मरेंगे

p7 managementये तस्वीरें दिसंबर महीने के उन्हीं चित्रों की पुनरावृत्ति प्रतीत होती हैं जब पी7 के कर्मचारी धरने पर बैठे थे। आज फिर पी7 के वो कर्मचारी जिनके साथ भेदभाव किया गया और सिर्फ 153 लोगों को पैसे दे दिये गये और 250 लोगों को छोड़ दिया गया, वे आख़िरकार पी7 दफ़्तर के परिसर में दाखिल हुए और बैनर, पोस्टरों के साथ वहीं डट गये हैं। इन कर्मचारियों की सीधी मांग है कि चैनल बंद हुए करीब 3 महीना गुज़र चुका है और चैनल प्रबंधन उन्हें उनके पैसे नहीं दे रहा है ऐसे में उनके पास अब कोई रास्ता नहीं बचता था। आपको बता दें कि इन कर्मचारियों ने मुकुंद शाही एंड टीम के धोखे के बाद अपना मामला लेबर कोर्ट में बढ़ाया, साथ ही सिटी मजिस्ट्रेट को भी इसकी जानकारी दी। दोनों जगह मामला चल रहा था लेकिन सिटी मजिस्ट्रेट के बार-बार कहने के बावजूद केसर सिंह अभी तक पैसे देने को राज़ी नहीं हो रहा है। केसर सिंह के चम्पु शरद दत्त और उदय सिन्हा सुमित तिवारी और कुछ चमचों के साथ सिटी मजिस्ट्रेट के दफ़्तर में पहुंचे थे और एक समझौते पर बात हो गई थी जिसके मुताबिक 25 फरवरी 2015 तक सबका भुगतान करना था और इस बारे में उनकी तरफ से ये लिख कर दिया गया था कि 29 जनवरी से भुगतान शुरू किया जा चुका है लेकिन झूठों ने किसी को एक पैसा नहीं दिया अभी तक और बस तारीख पर तारीख ले रहे हैं।

kesar p7पिछली तारीख पर 12 फरवरी को शरद दत्त और उदय सिन्हा ने एक समझौते पर साइन करते हुए सहमत हुए थे कि कंपनी 18 फरवरी तक ग्रेच्यूटी और पीएफ का पैसा दे देगी, लेकिन इस बारे में भी 18 फरवरी तक कुछ नहीं किया और जब 18 फरवरी को सिटी मजिस्ट्रेट के दफ़्तर में पहुंचना था तो केसर सिंह ने चाल चली और इनकी जगह अपने वकील को भेजकर ये कहलवाया कि केसर सिंह और विधु शेखर उस समझौते को नहीं मानते जिस पर उदय सिन्हा और शरद दत्त ने साइन किया। अब पी7 में इसी को लेकर धरना शुरू हो गया है जो अनवरत चलनेवाला है जब तक कि हर कर्मचारी का पैसा नहीं मिल जाता। इस बारे में कर्मचारियों ने पहले ही प्रबंधन को आगाह कर दिया था साथ ही एएलसी और सिटी मजिस्ट्रेट को भी बता दिया था। पी7 त्रासदी का घर हो गया है। मीडिया का यह वो हाउस है जिसने क्या-क्या नहीं देख लिया वो भी सिर्फ केसर सिंह की वजह से। एक चैनल जो नवोदित चैनलों में काफ़ी अच्छा बन पड़ा था, लोगों के ज़हन में उतर चुका था, कर्मचारियों और पत्रकारों के लिए अच्छा वातावरण देता था उसे केसर सिंह के घोटालों और उसकी बदनियती ने दूषित कर दिया, बर्बाद कर दिया। आज भी केसर सिंह अपनी भद्द नहीं पिटवाता और आसानी से सबको पैसे देकर सम्मानपूर्वक चैनल बंद कर सकता था या फिर दोबारा से शुरू कर सकता था या फिर किसी को भी बेच सकता था लेकिन केसर सिंह ने अपनी भद्द पिटवा ली, पी7 की इज्जत गिरा दी।

p7 3मीडिया के इतिहास में दुनिया में जो नहीं हुआ वो पी7 में हो गया। चैनल बंद होने की ख़बर ब्रेकिंग बनकर ख़ुद पी7 के स्क्रीन पर चली, डायरेक्टर भागने की फिराक में थे तो सभी कर्मचारी एकजुट हो गये और उनको उनके दफ़्तर से ही नहीं निकलने दिया और प्रशासनिक अधिकारियों को बुलाकर उनके सामने समझौता कराकर ही उन्हें छोड़ा। केसर सिंह चाहते तो ये सब नहीं होता और आराम-आराम से सबका पैसा देकर सबको इज्ज़त के साथ विदा किया जा सकता था। लेकिन इन्हें तो अपनी ही लेनी थी, सो आज भी यह लोग यही कर रहे हैं छुट्टृछुट्टा पैसा लोगों को दे दिया और कुछ-कुछ बातों पर ऐसे अड़ रहे हैं जैसे इन्हीं के कहने पर सब कुछ होगा। मैनेजमेंट को एक बार फिर कर्मचारियों का डंडा चाहिए था और वो डंडा लेकर कर्मचारी पी7 न्यूज़ के दफ़्तर में डट गये हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

10 + 11 =