एक लेख और दो अखबार,लेखक की चालबाजी या अखबार की लापरवाही ?

0
1350
जनवाणी में प्रकाशित लेख

अज्ञात कुमार

पार्थ उपाध्याय नाम के लेखक का एक लेख आज इकठ्ठे दो अखबार में एक साथ प्रकाशित हुआ है.इसे दैनिक जागरण और जनवाणी अखबार ने अपने संपादकीय पृष्ठ पर छापा है. दरअसल ऐसे लेखक संपादकों की आंख में धूल झोंककर चालाकी से एक ही लेखक को कई जगह प्रकाशित करवा लेते हैं। लेकिन इससे अखबारों और उनके संपादकों के काम-काज पर प्रश्नचिंह लगता है। दैनिक जागरण एक प्रतिष्ठित अखबार है। इनके संपादक राजीव सचान और त्रिपाठभ् जी है। लगता है दोनों संपादक अखबार के मालिक कैप्टन संजय गुप्ता का नाम डूबोना चाहते हैं। ऐसे संपादकों से बचना चाहिए। (एक पाठक की प्रतिक्रिया)

जनवाणी में प्रकाशित लेख
जनवाणी में प्रकाशित लेख (बड़े आकार में देखने के लिए तस्वीर पर क्लिक करें)
jagran parth
दैनिक जागरण में छपा लेख (बड़े आकार में देखने के लिए तस्वीर पर क्लिक करें)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.