पत्रकारिता विश्वविद्यालय में होगी पं. दीनदयाल पीठ की स्थापना

0
484

प्रेस विज्ञप्ति

पत्रकारिता विश्वविद्यालय में होगी पं. दीनदयाल पीठ की स्थापना,पत्रकारिता विश्वविद्यालय में “एकात्म मानवदर्शन और मीडिया की भूमिका” विषयक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने की घोषणा

pundit dindayalभोपाल, 24 सितम्बर/ पत्रकारिता विश्वविद्यालय में पं. दीनदयाल उपाध्याय पीठ की स्थापना की जायेगी। जिसमें एकात्म मानवदर्शन के अनुसार, सामाजिक संवाद एवं मीडिया की रचना तथा दायित्व विषय पर शोध कार्य होगा। साथ ही प्रकृति से संवाद पीठ की स्थापना डॉ. जगदीश चंद्र बसु के शोध के आधार पर की जायेगी। जिसमें पशु-पक्षियों, जीव-जंतुओं, वनस्पति का आपसी संवाद तथा मनुष्य के संवाद विषय पर शोध कार्य होगा। यह घोषणा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में पं. दीनदयाल उपाध्याय की 98वीं जयंती तथा उनके द्वारा प्रतिपादित एकात्म मानवदर्शन की 50वीं वर्षगांठ के प्रसंग पर आयोजित कार्यक्रम “एकात्म मानवदर्शन और मीडिया की भूमिका” विषयक में की। पत्रकारिता विश्वविद्यालय के एम.पी.नगर स्थित परिसर में इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था।

मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुये कहा कि विश्वविद्यालय के सभी पाठ्यक्रमों के प्रवेश अखिल भारतीय प्रवेश परीक्षा के आधार पर होते हैं। अतः विभिन्न समूहों की प्रवेश परीक्षाओं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली बालिका को लैपटॉप देकर पुरस्कृत किया जायेगा। विश्वविद्यालय में आज देशभर से छात्राएँ विभिन्न पाठ्यक्रमों में अध्ययन हेतु आ रही हैं। विभिन्न पाठ्यक्रमों के लगभग 40 प्रतिशत स्थानों पर छात्राओं के प्रवेश हो रहे हैं।

विश्वविद्यालय के प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालय इस वर्ष के अंत तक दीक्षांत समारोह का आयोजन करेगा। साथ ही “एकात्म मानवदर्शन एवं मीडिया की भूमिका” विषय पर अंतरराष्ट्रीय स्तर की संगोष्ठी अगले वर्ष के प्रारम्भ में आयोजित करेगा। जिसमें वैश्विक स्तर पर एकात्म मानववाद के दर्शन को प्रसारित करने पर विचार किया जायेगा। उन्होंने कहा कि वे एकात्म मानवदर्शन के विभिन्न पहलुओं पर विस्तृत चर्चा के लिए विश्वविद्यालय में फिर आएँगे और विद्यार्थियों से वार्तालाप करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.