हवाई जहाज हावी है लेकिन…बिग बॉस 8

0
802
बिग बॉस 8 पर हावी एयरलाइंस
बिग बॉस 8 पर हावी एयरलाइंस

बिग बॉस 8 पर हावी एयरलाइंस
बिग बॉस 8 पर हावी एयरलाइंस
कलर्स के बिग बॉस 8 की प्रोमो से लेकर एपीसोड तक से गुजरें तो पहला सवाल आपके मन में उठेगा- क्या अबकी बार इसका प्रायोजक कोई एयरलाइंन कंपनी है. शो में हवाई जहाज इतना हावी है कि आपको गैरजरुरी ढंग से झल्लाहट होगी. बिग बॉस के घर को जहाज बनाए जाने से अब पहले के एपीसोड कन्केशन नहीं बन पाता है.

दूसरा कि बिग बॉस शो खुद ही प्रतिभागियों के बीच साजिश, झगड़े और स्टंट पर टिका है, ऐसे में सीक्रेट सोसायटी जैसा एक विधान डालकर जो रही-सही संबंधों की तरलता स्क्रीन पर दिखाई देती थी, उसमे भी कटौती हो गई. दिलचस्प है कि इस सीक्रेट सोसायटी के लिए वो अयोग्य करार दे दिया जाता है जो मानवीय आधार पर फैसले लेता है, उसी अनुरूप बात करता है.

अबकी बार के प्रतिभागियों की प्रोफाइल पर गौर करें तो उनके चुने जाने का आधार टीवी भीतर टीवी शो लगेगा. प्रणीत भट्ट और पुनीत इस्सर जैसे प्रतिभागी जिसे शो यात्री कह रहा है, देखकर लगेगा कि टीवी का महाभारत जबरदस्त रूप से हावी है वहीं गौतम गुलाटी को देखकर कि सास-बहू सीरियल के लोकप्रिय चरित्रों के दम पर बिग बॉस पहले से बनी बनायी दर्शक को इसमे खपाना चाहता है. इसे न तो उन दर्शकों की चिंता है जो टीवी सीरियल न देखते हुए भी बिग बॉस देखते आए हैं और न उन पब्लिक स्फीयर में दिलचस्पी रखनेवालों के प्रति जो राजनीति, खेल, सामाजिक गतिविधियों आदि को बराबर महत्व देते हैं.

आर्य बब्बर और मिनिषा लाम्बा जैसे यात्रियों की भी एक सूची है जिससे आप इस सिरे से सोचेंगे कि क्या बॉलीबुड के सुपर-डुपर फ्लॉप कलाकारों की प्रोफाइल बेहतर करने की नैतिक एवं व्यावसायिक जिम्मेदारी बिग बॉस ने ली है. कुल मिलाकर अबकी बार बिग बॉस ने जिन प्रतिभागियों को शामिल किया है, एक तो उनमे विविधता नहीं है जिसकी वजह कुछ ही प्रोफेशन को ध्यान में रखकर लिए जाने से है और दूसरा कि इनकी पॉपुलरिटी का दायरा बहुत ही छोटा है..आप टीवी पर्दे से बाहर शायद ही इन्हें किसी दूसरी वजह से पहचान पाते हों.

लेकिन इन सबके बीच अच्छी बात ये है कि अब तक ये जो फॉर्मूला बन गया था कि जो विवाद में है, वो प्रतिभागी के लिए फिट है, ये अबकी बार ध्वस्त हुआ है..इसके साथ ही इससे पहले के ही सीजन में और अबकी बार कुछ ज्यादा घर की सफाई,हाइजिन, बर्तन धोने के तरीके आदि छोटी-छोटी बातों को लेकर एपीसोड में ज्यादा जगह मिल रही है, उससे ये शो आर्टिफिशयल होने के बीच भी ज्यादा वास्तविक लगता है. ऐसे में बिग बॉस का घर फैंटेसी की दुनिया कम लगकर रोजमर्रा की जिंदगी का ही एक कोना जान पड़ता है.

बिग बॉस– चैनल- कलर्स
समय– सोम-रवि, रात 9 बजे
स्टार– 2

(मूलतः तहलका में प्रकाशित)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

17 − two =

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.