जागरुक करने के नाम पर सिर्फ लताडः रेक्स टॉक, एमटीवी

0
301
जागरुक करने के नाम पर सिर्फ लताडः रेक्स टॉक, एमटीवी
जागरुक करने के नाम पर सिर्फ लताडः रेक्स टॉक, एमटीवी

जागरुक करने के नाम पर सिर्फ लताडः रेक्स टॉक, एमटीवी
जागरुक करने के नाम पर सिर्फ लताडः रेक्स टॉक, एमटीवी
1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस के मौके पर एमटीवी ने ड्यूरेक्स कंडोम के साथ मिलकर एक सेक्स के प्रति जागरुकता को लेकर कैम्पेन शुरु किया है. चूंकि प्रायोजक ड्यूरेक्स है इसलिए इसका नाम एमटीवी रेक्स टॉक है.

ढाई मिनट की वीडियो में ड्यूरेक्स के ब्रांड एम्बेस्डर अभिनेता रणवीर सिंह व्हॉट्स अप से लेकर चुत्स्पा, हाइवे पे 120 की रफ्तार से गाड़ी चलाने, जब तुम्हें पता ही नहीं है कि तुम पैदा कैसे हुए तो तुम्हारे होने का कोई मायने नहीं है जैसी दुनिया जहान की बातें करते हैं लेकिन आखिर में सेक्स अपने अर्थ में बेहद सिकुड़कर रह जाता है. एक तो वो जिस अंदाज में अपनी बात रखते हैं, लगता है एमटीवी ने उन्हें रोडिज के रघु राम की नकल करने को बाध्य किया है और दूसरा कि हम ऑडिएंस या तो नर्सरी के या फिर प्रौढ़ शिक्षा अभियान के तहत शामिल बुजुर्ग छात्र हैं. जिस बदतमीजी से वो अपनी बात रखते हैं जो कि एमटीवी का स्वाभाविक अंदाज है, हम दर्शक समझ ही नहीं पाते कि सेक्स के प्रति जागरुकता से इन बातों का क्या संबंध हैं ?

दूसरा कि ड्यूरेक्स इस पूरे कैम्पेन में इतना हावी है कि बेहतर होता वो अपने कंडोम का विज्ञापन ही प्रसारित कर देता. इसे अलग से सेक्स के प्रति जागरुकता का ठप्पना लगाकर सीएसआर करने की कोई जरूरत नहीं थी.

जिन दर्शकों को बकवास बात के बीच काम की बात खोज लेने की कला आती हो, उनके लिए तो रणवीर की बातों में कुछ मतलब निकल आएंगे लेकिन जो स्वाभाविक रूप से इससे जुड़ा चाहेंगे, उनके लिए झेलना बर्दाश्त के बाहर है..इधर हिंग्लिश का आतंक ऐसा कि आगे की लाइन आप सोचें अंग्रेजी में होगी तो हिन्दी हो जाती है और हिन्दी बोलते-बोलते अचानक से अंग्रेजी..आपको पटापट चैनल बदलने जैसी इरिटेशन होती है, वैसी ही बेचैनी ये हिंग्लिश सुनकर होगी. इसी दम पर रणवीर ने आमिर खान टाइप ज्ञान झाड़ने की नाकाम कोशिश की है.

स्टार- एक
चैनल- एमटीवी

(मूलतः तहलका में प्रकाशित)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 × one =