रवीश कुमार आपके साहस को देखने-सुनने के लिए आपका प्रवचन भी झेल लेंगें

0
297

रवि प्रकाश

रवीश कुमार के कार्यक्रम देखते हुए कई बार लगता है मानो वह प्रवचन दे रहे हों। बावजूद इसके रवीश कुछ बातें इतनी आसानी से बतला जाते हैं, जिन्हें बता पाने की या तो आपमें-हममें हिम्मत ही नहीं होती या फिर हम अपने मीडिया समूह के कर्ता-धर्ता को इसको बताने-दिखाने-पढ़ने-पढ़ाने के लिए कन्विंश नहीं कर पाते।

मसलन, यूपी के एक ब्राह्णण बहुल गांव में बात करते वक्त जमीन पर बैठ चुके दलित को खाट पर बराबरी में बैठाने का साहस या फिर यह कह पाने का साहस कि दलित खौफ में हैं। अकेले में बोलेंगे। इत्यादि-इत्यादि। रवीश, आप साहसी हैं। आपके साहस को देखने-सुनने के लिए थोड़ी देर हम आपके प्रवचन भी झेल लेंगे। शुभकामनाएं।

(स्रोत-एफबी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 12 =