रवीश कुमार की आजमगढ़ वाली रिपोर्ट का वो हिस्सा भीतर तक चीर गया

0
498

दिलीप खान

ravish-kumar-azamgadhरवीश की आज़मगढ़ वाली एक रिपोर्ट में गांव की महिला कहती है कि वो वोट उसी को देंगी जो उनकी समस्या दूर कर दे। पूछा गया कि समस्या क्या है? महिला का जवाब था कि उनके पास गोबर पाथने के लिए जगह नहीं है। रवीश की अगली लाइन थी कि गोबर पाथने को तो किसी भी पार्टी ने मेनीफेस्टो में रखा ही नहीं। रिपोर्ट का ये हिस्सा मुझे भीतर तक चीर गया। बताइए, एक देश में लोगों की आकांक्षाएं कितनी छोटी, कितनी रोज़मर्रा की ज़रूरतों से जूझती हुई-सी है और राजनीतिक पार्टियां हवाबाज़ी में कहां-कहां और कैसे-कैसे कैंपेन में जुटी हैं।



स्रोत-एफबी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − seven =