देवघर प्रभात खबर में पलायन का दौर जारी, पैरवी पुत्रों की पौ बारह

9
429

प्रभात खबर के देवघर संस्करण में इन दिनों भगदर सी स्थिति है. अभी तक पांच पत्रकारों ने यहाँ से इस्तीफा दे दिया है. ये सभी अपने क्षेत्र के मंझे हुए पत्रकार थे. यूं कह ले देवघर संस्करण की ये रीढ़ की हड्डी थे.

देवघर संस्करण को बाय – बाय कहनेवालो में उप संपादक परासर प्रभात, वरुण राय और वरीय उप संपादक सुमन झा शामिल हैं. जबकि कुछ दिन पूर्व छोड़ जाने वालो में वरीय उप संपादक राकेश कुमार सिंह, संवाददाता राकेश पुरोहितवार शामिल है. इनमें से अधिकांश ने हिंदुस्तान अखबार का दामन थाम लिया है जबकि सुमन झा ने दैनिक जागरण मेरठ में अपनी नयी पारी की शुरुआत की है.

अखबार के देवघर संस्करण के भीतरखाने से जो जानकारी बाहर आ रही है. सूत्र बताते है कि यहाँ की कार्य प्रणाली समर्पित पत्रकारों के अनुकूल नहीं रह गयी है. यहाँ तक पता चल रहा है कि कई और बहुत जल्द ही देवघर संस्करण से अपना नाता तोड़ने की तैयारी में हैं.

दिलचस्प यह है कि अन्य प्रतिद्वंदी अखबार का प्रबंधन यहाँ के असंतुष्ट पत्रकारों से लगातार संपर्क बनाये हुए है. लेकिन प्रभात खबर का प्रबंधन इस ओर उदासीन रवैया अपनाये हुए है.

दरअसल पूरा विवाद उस वक्त से शुरू हुआ है जब रांची में बैठे बड़े लोगो ने अपने एक चहेते को दुमका से उठाकर उस पद पर बैठा दिया जो यहाँ पहले से कार्य कर रहे कई वरीयो को नागवार गुजरा.

दुमका से आये ये जनाब यहाँ पहले से काम कर रहे कई पत्रकारों के अधीनस्त कार्य कर चुके है. ऐसे में प्रबंधन के इस फैसले ने पहले से यहाँ की कार्यसंस्कृति से नाराज़ चल रहे पत्रकारों के लिए आग में घी का काम कर गया है.

बात यहीं खत्म नहीं होती है. सूत्र बताते है की देवघर संस्करण में जो मेहनती पत्रकार है उन्हें ही हमेशा कोल्हू के बैल की तरह खटाया जा रहा है…जबकि कुछ पत्रकारों को यूं ही चापलूसी करने भर से ही पूरा वेतन मिल जा रहा है. इतना ही नहीं यहाँ वेतन में भी असामनता है जो काम कर रहे है उन्हें अल्प वेतन और जो पैरवी पुत्र है उन्हें अनुभव और कार्य क्षमता से ज्यादा वेतन दिया जा रहा है.

यही वजह है कि यहाँ सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि इतने असंतोष और निकल भागने की होड़ के बीच शीर्ष प्रबंधन क्यों खामोश है ?

9 COMMENTS

  1. Bilkul Galat Baat hai, Darasal jab se bharti ji yaha editor ban kar aaye hai to unhi ki razniti ke chalte ye sab ho raha hai….ha kuchh bahari tatvo ka bhi isme khel hai, Jisme waha ka nakli chief Reporter Sanjeet mandal bhi shamil hai, ye wahi madal hai, jisne pehle Sanjay Mishara ko bahar ka rasta dikhaya aur ab logo ko bhagkar bharti ji par dabab bana raha hai, Lkein bharti ji samajh nahi rahe hai

  2. rakesha ji pahle to aj ke akhabar me rajniti kaha nahi hai……….dusri bat sanjeet ji ko kitna din se jante hai hum 5 sal unke sath kam kiya tha aur jitna jan paya hu wo insab me nahi parte……..pahle janiye aur uske bad likhiye…….

  3. chadmi rakesh ji.. kisi k khilap likhne se pahle khud apne gireban me das bar jarur jhank len.. rahi bat chief reporter ki to unhe kisi ke certificat lene ki aawsykta nahi..chadmi bhai saheb aap unhe kitna jante hain. us wyakti ne pichle 11 barson me akhbar ki ibart likhne ka kam kiya..ye sara saher janta hai..

  4. bahrupiye Rakesh mahashay, aapko yah maloom hona chaahiye ki sanjeet mandal kya cheeze hai. aapne unhe farzi kaha hai. aapka kya degination hai jara sarwajanki karen. lagta hai bahut close se sanjeet mandal ko aap jante hai. kahi kisi more par takrayen hain kya. jara sambhal kar, takraaiyega to aap bhi bahar ho jaayiyega. jaha tak bharti ji ki baat hai to unhe aapko alert karne ki jarurat nahi. wo itne manje huye hain ki aap jaise chadmi par kabhi bhi bhari parenge.

  5. parsant
    dumka wale bhesahb wali bat hi sahi hay. uske sath hi parbandhn ki laparwahi vi jimmewar hay. betan ki asmanta sabse bda karn hay. esse pahle dumka wale bhaesahb kae logon se bewjh marpit vi karyalay me kar chuke hay. deoghar pk ke ak khambhe ko bhagalpur ka rasta dikha chuke hay. sanjay mishara. soorave ko use bad rasta dikhaya. par sanjit ko kuch kar nahi pa rhe. esi gam me wo daru ka sewn vi karne lage hay. kam kar rha dusra or mewa kha rhe dumka wale. weese ab puri tim ko hi badlne ki jarurat hay.
    :sigh:

  6. Bharti Ji se sanjeet badla le raha hai, Q ki bharti jee ne hi sanjeet ko prabhat khabar se Farzi news channel NEWS11 main le gaye the….usi ka badla samjeet le raha hai…..ye sabko pata hai…Isme poorv editor Ravi prakash ka bhi hath hai

  7. [quote name=”kishor singh dumka
    R.K, NIRAD NE DUMKA ME PRABHAT KHABAR KO BARBAD KAR DIYA. AB DEOGHAR KO V BARBAD HI KARKE CHOREGA. ASKE DUDHANI MAKAN KA HER EATT AUR CEMENT DALALI KE RUPEIYA SE BANA HI

  8. Harubansh jee R.K.NIRAD is a colour fox, but you think he is lion. when time Will come he will not rore but produced sound HUWA-HUWA.suman dumka

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

1 + four =