पत्रकार मनीष शर्मा का इंग्लिश उपन्यास- आय वॉन्ट टू बी तेंदुलकर !

0
382

tendulkarपिछले करीब 13 साल से पत्रकारिता में सक्रिय मनीष शर्मा के इंग्लिश-फिक्शन उपन्यास का कवर पेज हाल ही में सोशल मीडिया पर लॉन्च हो गया। कवर पेज को पाठकों द्वारा बड़ी संख्या में पसंद किया जा रहा है। उपन्यास अगले करीब एक से डेढ़ महीने के भीतर देश के अग्रणी बुक स्टोर और बेवसाइट-अमेजन, फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध रहेगा। भारत के बाहर भी कई देशों में उपन्यास को अमेजन इंटरनेशनल बेवसाइट के जरिए खरीदा जा सकेगा।

मनीष शर्मा का यह दूसरा उपन्यास है। उनका पहला इंग्लिश उपन्यास-लव-ऑल- साल 2013 में आया था, जो काफी पसंद किया गया था। बहरहाल, मैं तेंदुलकर बनना चाहता हूं वास्तविक और काल्पनिक घटनाओं का मिश्रण है, जो उपन्यास को बहुत खास बनाता है। कहानी मैं संदेश, मनोरंजन सहित अहम बातों का पूरा ध्यान रखा गया है। वहीं, प्रकाशक ज्ञान बुक पब्लिशर और लेखर ने कवर पेज की लॉन्चिंग के साथ ही 12-15 साल के लड़कों को कवर पेज पर छपने का सुनहरा मौका दिया है। इसके लिए सोशल मीडिया पर करीब 25 दिन एक कम्पटीशन चलाया जाएगा। इस अवसर को भुनाने के लिए-आय वान्ट टू बी तेंदुलकर के फेसबुक पेज से तमाम जानकारी जुटायी जा सकती है।

मनीष शर्मा ने बातचीत में कहा कि यह बहुत ही खास कहानी है और इस नजरिए से शायद ही पहले कभी लिखा गया है। उन्हें पूरा भरोसा है कि कहानी हर आयु वर्ग को बहुत ही ज्यादा पसंद आएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

five × four =