मोदी समर्थन और विरोध के बीच पनप रहा पत्रकारिता का माफिया

देश में आजकल पत्रकारिता का भी ध्रुवीकरण हो गया है. इस धुर्वीकरण के केंद्र में मोदी हैं. एक पक्ष मोदी के समर्थन में है तो दूसरा पक्ष मोदी के विरोध में. इन सबके बीच पत्रकारिता नयी करवट ले रहा है. सुपारी जर्नलिज्म तेजी से बढ़ा है. पत्रकार मनीष ठाकुर का विश्लेषण :

0
1075
modi media
फोटो क्रेडिट - कैच न्यूज़

मोदी विरोध और मोदी सपोर्ट की आड़ में कुछ लोग एड़ा बन कर पेड़ा खा रहे हैं। इस आड़ में पत्रकारिता के माफिया खूब फल-फूल रहे हैं और आम पत्रकार तबाह हो रहा है। कई चैनल बंद हो गए तो कई होने वाले हैं। लेकिन दूसरों के खिलाफ आवाज़ उठाने वाली कौम इतनी निरीह है कि खुद के खिलाफ आवाज़ तक नहीं उठा पाती। इन पर दया भी नहीं करनी चाहिये। इन से बेहतर तो मजदूर होते हैं जो अपने साथी के खिलाफ मालिक की सख़्ती पर आवाज़ बुलंद कर देते है।

लेकिन ये सत्ता की छांव में इतनी अकड़ में रहते है तब तक रहते है जब तक खुद की शेखी नहीं निकल जाती। इसलिए पत्रकार कौम से उम्मीद नहीं कि वो पत्रकारिता के रवीश और सुधीर जैसे वामपंथी और दक्षिणपंथी आड़ में अपनी दुकान चलाने वाले के खिलाफ आवाज़ उठा सके। लेकिन सोशल मीडिया को किस से खौफ है?

दो हिस्से में बंटे विचारधारा का फायदा ये घाघ उठा रहे है। आप इसे समझिए। एक पत्रकारिता का केजरीवाल जो आम आदमी की वेशभूषा और स्टाइल की नक़ल में अपने मालिक के एजेंडे को चला रहा है, दूसरा राष्ट्रवाद के एजेंडे में और सोशल मीडिया इन दोनों अपराधियों के लिए फैन क्लब बन कर कूद रहा है।

आँख मूंद कर किसी का फैन न बनिए। अब आपके हाथ में जनता का मीडिया है। उसका हिस्सा बनिए। कोई उगाही का अपराधी या विचारधारा के नाम पर मासूमियत की आड़ में हवाला का धंधा कर रहा है। उनके खिलाफ सबूतों के साथ जाँच चल रही है और हम अँधे होकर उन अपराधी पत्रकारों का जयजयकार कर रहे है। क्यों हम अपराधियो को भगवान बना रहे है। सोचिये। ये खुद सोशल मीडिया से गायब होकर अपने चेलो को यहाँ छोड़ रखा है अपनी सेवा में । बदले में टीवी पर उनका महिमामंडन अब इस खेल का पर्दाफाश जरुरी है।

manish thakur, journalist
मनीष ठाकुर,वरिष्ठ टीवी पत्रकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten + nineteen =