इंडिया टुडे देखकर कुछ – कुछ होता है !

2
1050

इंडिया टुडे की मुहिम रंग लायी, रेप हो गया

india-today-124

इंडिया टुडे जिसे आजकल अश्लील टुडे भी कहने लगे हैं , उसकी सेक्स को लेकर मुहिम सफल रही. दिल्ली में बलात्कार हो गया. हर साल की तरह इंडिया टुडे का सेक्स सर्वे वाला अंक कुछ दिन पहले ही आया था.

खास बात ये रही कि पिछले कई सालों के सेक्स सर्वे के चुनिंदा अंकों को भी इसमें शामिल किया गया था. यह इंडिया टुडे की तरफ से पाठकों को दिया जाने वाला एक्स्ट्रा बोनस है ताकि पुराने सर्वे का भी पाठक आनंद उठा सके.

ख़ैर ताजा अंक की बात करते हैं. इंडिया टुडे के सेक्स सर्वे वाले ताजा अंक में आवरण कथा पर एक स्त्री के शरीर के नीचे हिस्से की नग्न तस्वीर छपी है. इंडिया टुडे की इस तस्वीर पर हंगामा भी हुआ और आलोचना भी.

लेकिन इंडिया टुडे के संपादक को संभवतः यह लगता है कि ऐसी तस्वीर को देखकर जो लोग आलोचना कर रह हैं वे संकीर्ण मानसिकता के हैं और वे औरत की देह के ऊपर नहीं उठ पाए हैं. उनकी नज़र में संभवतः सेक्स को लेकर जागरूकता फ़ैलाने का काम कर रहे हैं. सेक्स शिक्षा दे रहे हैं.

लेकिन सवाल है कि आवरण कथा पर स्त्री की नग्न तस्वीर प्रकाशित कर के ही क्या सेक्स के प्रति सामाजिक जागरूकता फैलाई जा सकती है. यह स्त्री को भोग की तरह पेश करने की सफल कोशिश है.


यह सेक्स के प्रति सामाजिक जागरूकता फ़ैलाने से ज्यादा सेक्स को लेकर गाँव – कस्बों , ट्रक ड्राइवरों और बस ड्राइवरों को उकसाना है कि सेक्स करो, सहमति से या असहमति से या फिर बलात्कार.

मान लेते हैं कि इंडिया टुडे अच्छी नीयत से ही सेक्स सर्वे और नग्न तस्वीरों को छाप रहा होगा. लेकिन सवाल उठता है कि आपके पाठक उसे किस तरह से ले रहे हैं? उनपर क्या प्रभाव पड़ रहा है?

दूसरी बात यदि इंडिया टुडे (हिंदी) के पाठक के संदर्भ में सोंचा जाए कि उसका पाठक वर्ग कौन है? कौन से लोग उसे पढते हैं ? तो भी चीजें स्पष्ट होगी.

इंडिया टुडे (हिंदी) का बहुत बड़ा पाठक वर्ग है. शहर से लेकर गाँव तक में उसकी पकड है. इंडिया टुडे को हिंदी को देश – समाज में रुचि रखने वाले शख्स से लेकर बहुत सारे ट्रक ड्राइवर, ऑटो ड्राइवर और अपेक्षाकृत कम पढ़े – लिखे लोग भी पढते हैं. उनपर इंडिया टुडे के सेक्स सर्वे और उभार की सनक का क्या असर होता होगा? ये जानने की इंडिया टुडे के संपादक ने कभी जहमत उठाई.

उदाहरण के तौर पर एक ट्रक ड्राइवर जिसने अपनी ट्रक में इंडिया टुडे की कॉपी रखी हुई थी वह शराब के नशे में अपने साथी ट्रक ड्राइवरों को इंडिया टुडे का सेक्स सर्वे वाला अंक दिखाकर कह रहा था कि इसे देखकर यार मूड बन जाता है. कुछ – कुछ होता है. और क्या होता है, दिल्ली बलात्कार आपके सामने है.

बलात्कार एक घिनौना अपराध है तो इसकी पृष्ठभूमि बनाने वाले भी इसके लिए जिम्मेदार हैं. इंडिया टुडे और दूसरी पत्रिकाएं भी ऐसे सेक्स सर्वे और नग्न स्त्री देह को आवरण पर छापकर ऐसी ही पृष्ठभूमि तैयार कर रही है. यदि ये काम सरस सलिल करे तो उसके लिए शब्द बर्बाद करना व्यर्थ है.लेकिन इंडिया टुडे सरस सलिल नहीं और उसे अपनी जिम्मेदार निभानी चाहिए. सेक्स को लेकर जागरूकता फैलाना और सेक्स को टूल बनाकर पत्रिका का सर्कुलेशन बढ़ाने के अंतर को हिन्दुस्तान पहचानता है.

2 COMMENTS

  1. Tamasha & #653

    #653!!!!

    Yes, she is #653 of 2012.

    The girl fighting for life in Safdarjung Hospital in New Delhi is 653rd rape victim of 2012. Whatever may be the circumstances, she did not deserve to be raped. All the 652 women, who faced similar treatment earlier, surely didn’t deserve it. And in response to such an incident all the news channels saw unprecedented fireworks. The outrage that is pouring from all walks of life is indicating that a breaking point has been reached. There is multitude in multiple voices. Yet, the message is clear, everyone wants decisive action.

    The sheer brutality of 653rd act of violence & rape has rendered the nation clueless. People do not know if they should pray to the almighty for her life or a quick death. Her condition is so bad that only a miracle would restore her normalcy. Her internal organs are completely disturbed and even dislocated. The nation is perturbed. There is a pal of gloom, as if mourning is about to begin. Even if she lives on, there is a cause to mourn the death of civility in our society.

    What we are witnessing is an epidemic of Dabang-giri that has taken roots in our society. The extremism practiced by us in past several decades has come back to mock us in our faces; as if telling us, “You’re powerless to tackle the outcome of your own past prejudiced practices”. Rape of women is only a symptom of a larger social evil of Dabang-giri that is so rampant in our society.

    The breaking point has come in respect of Indian society tolerating the Dabang-giri any further. Each successive act of Dabang-giri will be resisted and responded by members of public. Such is the writing on the wall.

  2. Different Strokes of Susan Ninan for different folks of Times

    We are watching pouring outrage over rapes in general and it may be just the right time to look at what goes into making of a rapist-

    First of all, not just one thing – yet a variety of things – in small doses – over a prolonged period – make a rapist come alive.

    Given such a background, let us look at the contribution media makes; probably in ignorance. I wish to quote a live example of an interview done Susan Ninan’s (TNN) from Chennai. She has interviewed 8th seed Serb, Novak Djokovic. The text may be found at-

    http://timesofindia.indiatimes.com/sports/tennis/interviews/It-is-not-easy-to-work-without-support-Janko-Tipsarevic/articleshow/17642791.cms

    The interesting part is the headline- “It’s not easy to work without support”; which is 100% true of any sporting achiever or for that matter achiever from any domain. Indore Edition of has shown the player kissing his wife. Nothing wrong with it. Yet something is bothersome. A young player, kissing a attractive female and headline like that gives an impression about the kind of support needed to succeed. No where in the interview published on page 14 (20-12-12) there is a mention of support provided by a women leave alone a particular women, his wife. The caption of the photograph reads- “Janko Tipsarevic plants a kiss on his wife after winning the doubles title in last year’s Chennai Open”. This jucie picture occupies some 20% area on the space taken by this item. It has little connection with the subject of interview except that it informs the readers- “This player has an attractive, young blond for a wife whom he may kiss in public and be sure of being flaunted all over the world.”

    Another interesting thing, the original interview by Susan Ninan on the aforesaid link bears a picture of the player alone gesturing while playing a game. the caption reads- “It is not easy to work without support: Janko Tipsarevic. While Novak Djokovic may be the best-known Serb in the tennis circuit, his compatriot Janko Tipsarevic is also a force to reckon with. (TOI Photo)”

    It is prerogative of a local editor to make his copy look better and a young player kissing an attractive and young blond adds the spice to the copy. And that such a picture may be somewhat ir-ralavant is the thing that troubles me in context of current outrage.

    I could not find an Internet link for Indore Edition of Times of India where this is published. Nor can I find that picture (on the Internet) which has appeared in paper today. If some one has got it, please add it your responses.

    I can not be absolutely sure that such reporting could in any way contribute into making of a rapist in the long run; yet I have a hunch that it does. Opinion of others on this group would be valuable in establishing it one way or the other.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − three =