मुजफ्फरनगर में हिंदुस्तान बना कंसल टाइम्स

0
592




अज्ञात कुमार

muzaffarnagar-hindustanदुनिया में हर किसी की हद मुकर्रर है, लेकिन मुजफ्फरनगर में हिंदुस्तान अखबार ने जो कारनामा कर दिखाया है, उसने इस चापलूसी की सारी हदों को पार कर दिया है। गुरूवार का हिंदुतान अंक जैसे कंसल टाइम्स बनकर रह गया है। दरअसल बुधवार को हिंदुस्तान अखबार ने दंगे की बरसी पर एकता की मुहिम नाम से एक कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमंे कई स्कूलों के बच्चों ने भाग दिया। कमाल की बात ये है कि गुरूवार को हिंदुस्तान अखबार ने इस कार्यक्रम की पेज नंबर दो पर बेहतरीन कवरेज दी। जिसमें कुल 9 फोटो तो बड़े प्रकाशित किए, जिनमें से 4 फोटो मुजफ्फरनगर के प्रमुख उद्योगपति भीमसेन कंसल के प्रकाशित कर दिए। इतना ही नहीं गणमान्य काॅलम में प्रकाशित किए गए 10 फोटोज में भी एक फोटो फिर से भीमसेन कंसल का प्रकाशित किया गया है।

गौर करने वाली बात ये है कि जो फोटो गणमान्य लोगों के प्रकाशित किए गए है, वो भी वे ही लोग हैं जिन्होंने शहर के मालवीय चैक पर खड़े होकर फोटो खिंचवाए और फिर वहीं से चंद कदमों की दूरी पर स्थित हिंदुस्तान के आॅफिस में भी इन्ही लोगों के फोटो खींचे गए। यानि गिने-चुने वो ही 8-10 लोगों को लेकर ये कार्येक्रम आयोजित कर पूरा पेज प्रकाशित कर दिया है।

जग जाहिर है कि हिंदुस्तान अखबार के मुजफ्फरनगर जिला प्रभारी अरविंद भारद्वाज के उद्योगपति भीमसेन से खास ताल्लुकात है और इन्ही खास संबंधों को लेकर अक्सर दोनों काफी चर्चाओं में भी रहते है। यानि गौर करने वाली बात है कि गुरूवार को हिंदुस्तान अखबार पूर्ण रूप से भीमसेन जी के चरणों में समर्पित हो गया। इतना ही नहीं… इन गणमान्यों में एक वो उद्योगपति सतीश गोयल भी शामिल है, जिस पर करोड़ों की टैक्स चोरी का आरोप लगा था और जब अधिकारियों ने उनके संस्थानों और आवास पर छापा मारा था तो अधिकारियों के पीछे इन महाशय ने कुत्ते छोड़ दिए थे। कुल मिलाकर हिंदुस्तान अखबार का गुरूवार का अंक मुजफ्फरनगर में इस मुद्दे को लेकर खासा चर्चाओं में रहा।

http://epaper.livehindustan.com//epaper/null/Muzaffarnagar/2016-9-08/50/Page-2.html

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seven + eighteen =