आजतक,एबीपी न्यूज़ वाले दीपक चौरसिया कहाँ गुम हो गए?

0
1097

 

सुजीत ठमके

दीपक चौरसिया,एडिटर-इन-चीफ,इंडिया न्यूज़
दीपक चौरसिया,एडिटर-इन-चीफ,इंडिया न्यूज़
दीपक चौरसिया मीडिया जगत का एक ऐसा नाम जिनको राजनीतिक खबरे ब्रेक करने में महारत हासिल है। इंडिया न्यूज़ के एडिटर इन चीफ है। इंडिया न्यूज़ के प्राईम टाईम में दीपक दो शो को होस्ट करते है। टू नाईट विथ दीपक चौरसिया एवं अंदर की बात। जनमानस में दीपक की छवि राजनीतिक खबरों के मास्टर ऐसे ही रही है। दीपक चौरसिया किसी शो को होस्ट करते है और खासकर ऐसे शो जो देश- दुनिया के राजनीतिक मुद्दो से जुड़े हो तो शो टीआरपी मिलना तय है। दीपक खबरों में वेरायटी देखते है। दीपक अपने ख़ास अंजाद में राजनेताओ की चुटकी लेते है। हँसी-मजाक, चुटकुलो के जरिये गंभीर डिबेट को सहज, सरल बना देते है। ताकि व्यक्तिगत सम्बन्धो पर इसका असर ना पड़े। दीपक की यही ख़ास कला उनका यूएसपी है। श्रोता मंत्रमुग्ध होकर दीपक की एंकरिंग देखते थे। किन्तु इंडिया न्यूज़ पर दीपक के होस्ट किया जा रहे प्राईम टाईम शो में वो गंभीरता, संवेदनशीलता, गहनता, बौद्धिक ऊचाईयाँ नहीं दिखाई देती जो आजतक, एबीपी न्यूज़, डीडी के रिपोर्टिंग और एंकरिंग में दिखाई पड़ती थी।

दीपक चौरसिया मध्यप्रदेश से ताल्लुक रखते है। अखबार पढ़ने का बचपन से ही शौक था। दीपक ने खबरों को परखने, समझने की तालीम यही से सीखी। माँ- बाप चाहते थे दीपक डॉक्टर बने। छात्र चुनाव के जरिये दीपक को राजनीति नजदीक से देखने का अवसर मिला। विश्वविद्यालय स्तर के वादविवाद प्रतियोगिता में दीपक अव्वल रहने थे। वादविवाद प्रतियोगिता का विषय कितना भी जटील,असामान्य हो दीपक सरल भाषा में दर्शको तक पहुँचाने में कामियाब होते थे। इसी लगन ने दीपक को टीवी पत्रकारिता में अर्श तक पहुंचा दिया। आईआईएमसी से पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा करने वाले दीपक ने पत्रकारिता की शुरूआत मध्यप्रदेश से प्रकाशित दोपहर के हिंदी अखबार से की थी। दोपहर के अखबार के लिए दिल्ली से खबर भेजने के चलते दीपक को राजनीतिक खबरे ब्रेक करने मौका मिला। कल के अखबार मेंन लिड बनाने वाली राजनीतिक स्टोरी दीपक दोपहर में ब्रेक कर देते थे। राजनीतिक खबरों के चलते दीपक की प्रमुख राजनेताओ से नजदीकी बढ़ी। जिसका फायदा दीपक को पत्रकारिता में परदे के पीछे की राजनीतिक, गतिविधि समझने में हुआ।

राजनीतिक खबरों को ब्रेक करने में महारत चौरसिया ने आजतक के जरिये टीवी पत्रकारिता में कदम रखा। एसपी साहब के टीम का हिस्सा बने। राजनीति से जुडी कई बड़ी खबरे दीपक चौरसिया ने ब्रेक की है। आज तक पर रहते हुए बड़े राजनेताओ के इंटरव्यू लिए है। एबीपी न्यूज़ ( पहले स्टार न्यूज़ ) में कौन बनेगा मुख्यमंत्री ? कौन बनेगा प्रधानमंत्री ? चुनावी शो हिट हुए। इसके अलावा उन्होंने कई बेहतर शो भी किये। दीपक चौरिसया द्वारा नौटंकी फेम राखी सावंत का लिया गया इंटरव्यू काफी चर्चित रहा। दीपक पर यह आरोप भी लगे की उन्होंने सामाजिक सरोकार से जुडी पत्रकारिता कभी नहीं की । देश के सामाजिक मुद्दो को गंभीरता से उठाया नहीं । जब की खुद दीपक दलित समाज से ताल्लुक रखते है। दीपक ने कभी भी राजनीतिक खबरों की दुनिया से बाहर निकलकर पत्रकारिता की नहीं। आप के नेताओ के स्टिंग ऑपरेशन के बाद दीपक पर संगीन आरोप लगे की वो सुपारी पत्रकारिता करते है। चौरसिया के फुवडपन के कारण कई बार उनको मुह की खानी पड़ी। आसाराम बापू की प्रवक्ता ने चौरसिया को लाइव शो के डिबेट के दौरान कहा था ” आप पत्रकार नहीं दलाल हो……” एक इंटरव्यू के दौरान रिटायर्ड जस्टिस काटजू ने दीपक को फटकार लगाईं थी। गेट आउट….. आप को ठीक से बिहेव करना नहीं आता बकवास बंद करो….. बोलकर जस्टिस काटजू ने इंटरव्यू छोड़ दिया था। अर्श से फर्श तक का सफर करने के बावजूद दीपक चौरसिया द्वारा होस्ट किये गए प्राईम टाईम शो को देखकर लगता है शायद यह आजतक, एबीपी न्यूज़, डीडी न्यूज़ वाले दीपक चौरसिया नहीं है जो राजनीतिक खबरों के मास्टर कहा जाते थे।

सुजीत ठमके

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fourteen − three =