डांस-डांस में टेलीफोनिक रोमांस

0
1173

 

-अनिल बेदाग-

इन दिनों यूथ में मोबाइल का क्रेज़ है। ये मोबाइल ही है जिसने यूथ के बीच रोमांस का भी एक नया चैप्टर खोल दिया है। अब रोमांस के लिए प्रेमी युगल का साथ होना जरूरी नहीं, मोबाइल पर भी रोमांस किया जा सकता है और अपनी फीलिंग्स शेयर करने के साथ-साथ मोबाइल पर सेक्शुअल चैट के तो कहने ही क्या।

स्टूडियो मैक्स के तहत निर्देशक रवि भाटिया ने मोबाइल प्रेमी व संगीत रसिक युवाओं की रग पकड़ी और ले आए एक सनसनाता म्यूज़िक वीडियो, जो रेव म्यूज़िक ने जारी किया है। यह डांस नंबर है जो खासतौर पर उन श्रोताओं के लिए है, जिनपर मोबाइल की दीवानगी छाई है। कुल मिलाकर प्रेमी जोड़ों के बीच ऐसा पुल या माध्यम बनकर आया है यह मोबाइल, जिसने रोमांस की दुनिया में एक क्रांति ला दी है। ‘मोबाइलर’ नाम का यह डिजिटल रोमांस पर आधारित गीत अमन त्रिखा और रितु पाठक ने गाया है।

गीत का खास आकर्षण तारा शुक्ला और सागर खान हैं, जिनपर यह गीत फिल्माया गया है। मोबाइलर को लिखा है योगेंद्र नागदा ने जिन्होंने न सिर्फ इस गीत को कंपोज़ किया बल्कि डीजे के रूप में भी कैमरे के सामने नज़र आए हैं। कोरियाग्राफर सोनू बाबा ने इस डांस नंबर को चुनौती के रूप में लिया और एक क्लब की लोकेशन में ऐसा धमाल पैदा कर दिया जिसे देखकर दर्शक सचमुच हैरान रह जाएंगे।

हालांकि इस गीत से पहले भी निर्देशक रवि भाटिया श्रोताओं के लिए सनसनी पैदा करने वाला एक गीत ला चुके हैं जिसने ‘चटनी मिक्स’ के रूप में विवाद और चर्चाएं बटोरी थीं। गिलौरी बिना चटनी कैसे बनी नाम का यह गीत 2007 में आम्रपाली और चाइल्ड आर्टिस्ट मास्टर रौनक पर फिल्माया गया था। रवि भाटिया कहते हैं उनका ‘मोबाइलर’ भी उसी तरह हलचल मचाने का दम रखता है, क्योंकि यूथ की जान इसी मोबाइल में अटकी है।

यूथ ही नहीं, रवि भाटिया ने बच्चों के लिए भी काम किया है। वह बच्चों पर आधारित एक फिल्म ‘टू लिटिल इंडियन’ बना चुके हैं, जिसे काफी सराहा गया था। रवि कहते हैं कि ऐसी फिल्मों को कॉमर्शियल रूप से सफलता नहीं मिल पाती जिस वजह से निर्माताओं का मनोबल टूटता है। रवि भाटिया कई शॉर्ट स्टोरीज़ और बीस के करीब एलबम बना चुके हैं।

(अनिल बेदाग)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

seventeen − 8 =