Categoryउत्तरप्रदेश


क्या भाजपा को अपनी जीत का भरोसा नहीं रहा?


क़ब्रिस्तान बनाम शमशान? रमज़ान बनाम दिवाली? कल तक सुनामी का मुग़ालता था, आज फिर वही फ़िरक़ापरस्ती की शरण? क्या भाजपा को अपनी जीत का भरोसा Continue Reading