अमेरिकन राष्ट्रपति ट्रम्प की नीति का आंकलन

0
486
मुस्लिमों के खिलाफ अमेरिका
मुस्लिमों के खिलाफ अमेरिका

-डॉ शोभा भारद्वाज-




डॉ.शोभा भारद्वाज
डॉ.शोभा भारद्वाज

डोनाल्ड ट्रम्प ने हिलेरी क्लिंटन जैसी सीनेटर, विदेश सचिव और प्रथम महिला रही विख्यात महिला को चुनाव में हरा कर अमेरिका के राष्ट्रपति पद का चुनाव जीता, विश्व हैरान है अमेरिकन मीडिया ने हिलेरी का जम कर समर्थन किया था ट्रम्प के विरोध में हिलेरी पर लगे आरोपों को अनदेखा कर ट्रम्प की एक –एक कमजोरी को उजागर किया | चुनाव सर्वे हिलेरी के पक्ष में थे| ट्रम्प उन्हें क्रुकुड हिलेरी के नाम से सम्बोधित करते थे लेकिन उनकी फाईटर स्पिरिट के भी प्रशंसक थे | हिलेरी और ट्रम्प की टक्कर में सभी को विश्वास था हिलेरी की जीत सुनिश्चित है | दुनिया का सबसे प्राचीन लोकतंत्र ,विश्व शक्ति लिबरलाइजेशन ,समानता और मानवाधिकारों की दुहाई देने वाले अमेरिका में आज तक महिला राष्ट्रपति नही बनी है लग रहा था पहली बार हिलेरी पद को शुशोभित करेंगी लेकिन उलटा हुआ ट्रम्प की जीत आश्चर्यजनक थी उन्हें 279 वोट प्राप्त हुए जबकि हिलेरी को 228 | हिलेरी सफल राजनेता थी जबकि ट्रम्प एक सफल बिजनेस मैन हैं उन्होंने राजनीति में कभी सकारात्मक भूमिका नहीं निभायी थी वह नये खिलाड़ी हैं | राजनीति में कूटनीति का बसती है विश्व में अमेरिका अपनी कूटनीतिक चालों के लिए मशहूर है लेकिन जीता कौन ?मैनेजमेंट गुरु उन्होंने स्थानीय मुद्दों को प्रमुख स्थान दिया उन्हीं को अमेरिकन जनता के सामने रखा | अमेरिकन वित्त विभाग कितना भी छुपाये 2008 से देश आर्थिक मंदी की मार झेल रहा है| जनता ने विकास और नौकरियों की सम्भावना बढ़ेगी इसको वोट दिया है जबकि ट्रम्प के विरोधी ट्रम्प की जीत के विरोध में मार्च निकाल रहे हैं | बड़ी कम्पनियों के सीओ परेशान हैं राजनीति में अनुभवहीन व्यक्ति अमेरिका के सम्मान को बरकरार रख सकेगा | लगता है जनता राजनीतिज्ञों की कूटनीतिक चालों से तंग आ चुकी है |

ट्रम्प ऐसे समय में राष्ट्रपति पद के लिए चुने गये हैं जब कांग्रेस के दोनों सदनों हाउस आफ रिपब्लिक और सीनेट में रिपब्लिकन का बहुमत है चुनाव से पहले जो रिपब्लिकन नेता उनका विरोध कर रहे थे वह भी उनकी तरफ झुक रहे हैं अब उनकी बाजू पकड़ने वाला कोई नहीं है जबकि सीनेटर अपने नेता का भी विरोध करने में मशहूर रहे हैं | सुप्रीम कोर्ट में एक जज की नियुक्ति होनी है वह भी रिपब्लिकन पार्टी के फेवर हुआ तो सब कुछ ट्रम्प के पक्ष में होगा | अमेरिका में कार्यपालिका विधायिका और न्याय पालिका चैक एंड बैलेंस अर्थात शक्ति संतुलन के सिद्धांत पर आधारित है |समय ट्रम्प की शक्ति को बढाने वाला है उन्हें केवल समय का सदुपयोग करना है| ट्रम्प के भाषणों का सार रहा है वह अवैध रूप से रहने वाले विदेशियों को अमेरिका से निकाल देंगें| ओबामा भी अपने आठ वर्ष के कार्यकाल में 2 मिलियन क्रिमिनल रिकार्ड वाले इमिग्रेंट को निकाल चुके हैं लेकिन उसका कोई जिक्र नहीं है | रोजगार देने का दावा करने वाले उम्मीदवार की तरफ वोटर का रुझान होना स्वाभाविक था | अमेरिका जाना रोजगार पाना अधिकांशतया नौजवानों की चाहत रही है खतरों से खेल कर भी वह अमेरिका जाना चाहते हैं वहाँ लगभग अवैध रूप से अमेरिका में आये 1.1 मिलियन लोग काम करते हैं उनको नौकरी देने वाले उनका पासपोर्ट और जरूरी कागजात अपने पास रख कर कम वेतन में काम करवाते हैं यह लेबर फ़ोर्स छोटा काम करते हैं | अमेरिकन बाशिंदों को काम नहीं मिल पता क्योंकि वह लेबर रूल के अनुसार वेतन और काम के घंटों में काम करते हैं | ट्रम्प अवैध रूप से रहने वालों को निकालने की बात करते थे जबकि केवल 6% अमेरिकन ही मिनीयल कामों को करने के इच्छुक रहेंगे | अवैध रूप से बसे इमिग्रेंट के पास न वीजा है न ही वर्क परमिट कहा जाता है उनमें कईयों का अपराधिक रिकार्ड है| अमेरिका में काम करने वाले हैं कई ऐसे हैं जो 25 साल यहाँ रहते हैं |उनको अपना भविष्य खतरे में नजर आता है |ट्रम्प साफ़ तौर पर कहते हैं वह क्रिमिनल्स जिनका अपराधी गतिविधयों में लिप्त रहने का रिकार्ड है गैंग सरगना ,गैंग मेंबर और ड्रग डीलर हैं या तो निकाले जायेंगे या जेल जायेंगे|




कुछ लोग कालों के प्रति वायलेंट हैं वह उनको क्रिमिनल समझते हैं ट्रम्प के निर्वाचित होने से उनके सपोर्टर सोचते हैं उन्हें कालों को मारने का लायसेंस मिल गया काले भयभीत हैं उन पर ट्रम्प समर्थक प्रहार करेंगे| जबकि अमेरिका में कानून सख्त है ऐसी सम्भावना कम है |ट्रम्प समर्थक ,चुनाव प्रचार में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेने वाला रूडी जूलियानी रेसिस्ट है|केकेके (कू क्लक्स कलान ) यह रेसिस्ट समूह है| कलान रोमन कैथोलिक ,यहूदियों और मैक्सिकन के खिलाफ हैं संगठन गोरों की सुप्रिमेसी( सफेद राष्ट्रवाद ) में विश्वास करते हैं काले उनके गुलाम थे यह मौका देखते ही कालों के खिलाफ कानून को अपने हाथ में ले लेते थे काले लोगों को रस्सी से फांसी देते थे | 1865 में यह दक्षिण राज्यों शुरू हुआ था 1915 में फिर से विलियम जे सीमन्स के नेतृत्व में जोर पकड़ा इनकी सदस्य संख्या पाँच लाख तक पहुंच गयी थी स्थानीय पुलिस भी उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकती थी लेकिन 1928 के बाद इनकी मेंबर संख्या घटती जा रही है |केकेके का हैड ट्रम्प के आने से बहुत खुश है |

कट्टरपंथी इस्लामिक आतंकवाद से विश्व भयभीत है |अमेरिका भी 9/11 की त्रासदी झेल चुका है | ट्रम्प ने मुस्लिम के खिलाफ ब्यान दिए उसने मुस्लिमों के अमेरिका में प्रवेश को प्रतिबंधित करने और प्रवासी मुस्लिमों पर नजर रखने की बात कही थी| ओरलेंडो के गे क्लब पर फायरिंग कर 50 को मारने वाला उमर मतीन अफगानी मूल का नागरिक था उसने अल्ला हो अकबर कह कर निर्दोष लोगों पर गोली चलाई थी ट्रम्प ने कहा था इन हत्यारों को अमेरिका में नहीं होना चाहिए | मुस्लिमों में अधिकाँश ने ट्रम्प को वोट नहीं दिया |हिजाब पहन कर अपनी धर्म के आधार पर अपनी अलग पहचान रखने वाली महिलाओं को भी ट्रम्प के आने से भय है जबकि हिजाब पर ट्रम्प ने कोई ब्यान नहीं दिया | प्रोग्रेसिव मुस्लिम को ट्रम्प से किसी किस्म का भय नहीं है यह प्रवासी समाज में घुल मिल गये हैं | क्या ट्रम्प मुस्लिम पर प्रतिबन्ध लगाने में सक्षम हो सकेंगे? कांग्रेस ने पहले ही अमेरिका में आने वालों से सम्बन्धित नियमों को बदलने के लिए राष्ट्रपति को कई अधिकार दिए हैं | कानून बनाने के लिए कांग्रेस की स्वीकृति अब जरूरी नहीं है लेकिन ऐसा करने से पहले ट्रम्प को दस बार सोचना पड़ेगा अमेरिका विश्व शक्ति है उसकी अपने नागरिकों के लिए प्रतिबद्धता है सबके साथ समान व्यवहार देश की नीति है फिर भी मुस्लिम ट्रम्प की जीतने के बाद अपने भविष्य के बारे में सशंकित हैं लेकिन ट्रम्प ने कहा था वह आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लड़ने में मुस्लिम देशों के साथ हैं उनका तर्क है आतंकवादियों से लड़ने की पहली जिम्मेदारी मुस्लिम देशों की है | जेहादी संगठन बहुत खुश हैं वह मानते हैं यदि अमेरिका में मुस्लिमों को सताया गया उनमें क्षोभ होगा विरोध में जेहादी मिलेंगे | एक दिवा स्वप्न है ।“

मैक्सिको निवासी अवैध ढंग से अमेरिका में आते रहते हैं |अवैध रूप से मादक पदार्थों की तस्करी भी जम कर होती है इससे अमेरिकन नस्लें बर्बाद हो रही है |तस्करों ने अंडर ग्राउंड रेल पटरियां बना कर तस्करी का इंतजाम किया है| ट्रम्प इनसे बहुत नाराज हैं वह मैक्सिको के आसपास दीवार बनाने की बात भी करते हैं उन्होंने हंस कर कहा आप जानते हैं कंस्ट्रक्शन काम में वह कितने माहिर हैं |अमेरिकन के अनेक कारखाने मैक्सिको में लगे हैं क्योंकि अमेरिकन लेबर बहुत मंहगा है वहाँ काम करने के लिए सस्ता लेबर मिलता है | दीवार बनाना क्या सम्भव होगा ? क्या आनेजाने पर सख्त निगरानी हो सकेगी ? कुछ विचारकों का मानना हैं ट्रम्प सत्ता ग्रहण करने के सौ दिनों में पहला काम यही करेंगे लेकिन मैक्सिको की सीमा पर 1609 मीटर लम्बी दीवार कैसे बनायेंगे मैक्सिको के राष्ट्राध्यक्ष ने कहा है वह दीवार बनाने में आर्थिक सहयोग नहीं करेंगे |ट्रम्प को उनकी मैक्सिको नीति पर अमेरिकन जनता का समर्थन मिला है|

चुनाव के समय कई महिलाओं ने आगे आकर ट्रम्प पर अभियोग लगाये |100 के करीब महिलाओं ने कपड़े उतार कर आईने के साथ विरोध किया लेकिन महिलाओं के एक मुश्त वोट हिलेरी को नहीं मिले | मिलिट्री ट्रम्प से खुश नहीं है वह पांच वर्ष तक आर्मी स्कूल में पढ़े मिलिट्री सर्विस अमेरिका में जरूरी है लेकिन वियतनाम वार के समय यह मिलिट्री सर्विस से पीछे हट गये ऐसा उन्होंने तीन बार किया |ट्रम्प व्यवसायी हैं वह हर नीति को नफा नुक्सान से तौलते हैं उन्होंने समझ लिया अमेरिकन नौजवान जाब और जाब सिक्योरिटी चाहता है कुछ ही लोगों के पास अकूत दौलत है बाकी आम जिन्दगी जीते है, बड़ा हिस्सा केवल मिलने वाली डोल पर गुजारा करता है| ट्रम्प ने उन्हें नौकरी और अच्छे वेतन का आश्वासन दिया है | नौकरी में अमेरिकन पहले की नीति पर अमल करना चाहते हैं |

(डॉ शोभा भारद्वाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 5 =