आजतक ने पहले बजाया और फिर सलमान खुर्शीद को मेहमान बनाया!

0
420
जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!
जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!

जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!

जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!
जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!

आजतक का ऑपरेशन धृतराष्ट्र आपको याद होगा. ऑपरेशन धृतराष्ट्र के जरिए आजतक के दीपक शर्मा ने सलमान खुर्शीद की वर्षों की बनी-बनायी छवि को तार-तार कर दिया था. ऑपरेशन धृतराष्ट्र की धमक से सलमान खुर्शीद कुछ यूँ परेशान हुए कि प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर सफाई देनी पड़ी. लेकिन प्रेस कांफ्रेंस में भी वे अपनी सफाई पेश नहीं कर पाए थे.

उल्टे उनकी और अधिक फजीहत ही हो गयी. दीपक शर्मा के तीखे सवालों ने सलमान खुर्शीद के इमेज के चिथड़े उड़ा दिए. दीपक शर्मा के सवालों से वे कुछ इस कदर खफा हो गए थे कि शांत व गंभीर खुर्शीद की छवि से निकलते हुए पूरे लठैती की मुद्रा में दिखे.

बाद में दिल्ली से लंदन तक आजतक पर मानहानी के दावे ठोकने की बातें आयी. लेकिन न आजतक डिगा और न उसके मालिक अरुण पुरी. ऑपरेशन धृतराष्ट्र चलता रहा और आज भी ऑपरेशन धृतराष्ट्र की खबर आजतक की वेबसाईट पर शान से लगा हुआ है.

यह उस समय की बात है जब सलमान खुर्शीद क़ानून मंत्री थे. बाद में उनकी और तरक्की हुई और आजतक के स्टिंग को ठेंगा दिखाते हुए सलमान खुर्शीद को विदेश मंत्रालय का कार्यभार मिल गया. ऐसा प्रतीत हुआ कि इस ऑपरेशन से सलमान खुर्शीद पर कुछ असर नहीं पड़ा और उनका कद और बड़ा हो गया. जबकि सच तो यही था कि आजतक ने उनके नीचे की जमीन खिसका दी थी. बहरहाल खबर ये आयी कि सलमान खुर्शीद आजतक से कुछ इस कदर नफरत करने लग गए कि उसके रिपोर्टरों से सीधे मुंह बात करने के लिए भी राजी नहीं होते थे बाईट देना तो दूर की बात है.

जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!
जियो आजतक सलमान खुर्शीद को क्या-क्या रंग दिखाए!

ख़ैर वक्त बदला. मोदी लहर में कांग्रेस पार्टी हवा हो गयी. सलमान खुर्शीद औंधे मुंह गिरे. जमानत तक जब्त हो गयी.कैबिनेट मिनिस्टर से फिर वकील बन गए. और अब उनकी अक्ल ठिकाने आ गयी. इन सबके पीछे ऑपरेशन धृतराष्ट्र की बड़ी भूमिका रही. तो ऐसे में ये सोंचना स्वाभाविक ही था कि आजतक और सलमान खुर्शीद में कभी मेल-मिलाप शायद संभव नहीं होगा.

ऑपरेशन धृतराष्ट्र के बाद Aaj Tak और सलमान खुर्शीद एक-दूसरे के खिलाफ खड़े थे.सरकार पलट गयी. लेकिन आजतक अपनी जगह पर कायम है तो ‘धृतराष्ट्र’ जी को भी अपना एजेंडा बदलकर आजतक के ‪#‎Agenda14‬ में आना पड़ा.

आजतक एजेंडा (2014) के मंच पर न केवल सलमान खुर्शीद हाजिर हुए बल्कि ‘धूम मची है’ (मोदी) में भाजपा के शाहनवाज हुसैन के साथ परिचर्चा में भाग भी लिया. तो कहने का दिल किया – “जियो आजतक तुमने अपनी ठसक दिखा दी, पहले बजाया और फिर मेहमान बनाया.”

वैसे सलमान खुर्शीद ने मीडिया के बहाने एक बार आजतक पर भी निशाना साधा और कहा – मोदी के निर्माण में मीडिया का बड़ा योगदान………

सलमान खुर्शीद, दीपक शर्मा और ऑपरेशन धृतराष्ट्र

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one + twenty =