एबीपी न्यूज के सामने टिक नहीं पाया आजतक : अजीत अंजुम,प्रबंध संपादक,न्यूज़24

0
675

अजीत अंजुम, प्रबंध संपादक, न्यूज़24

प्रधानमंत्री और वंदे मातरम में मुकाबला
प्रधानमंत्री और वंदे मातरम में मुकाबला

आजतक वाले भाई लोगों ने माहौल तो खूब बनाया,लेकिन एबीपी न्यूज के सामने टिक नहीं पाए !

मैं जब भी ‘एबीपी’ न्यूज चैनल पर ‘प्रधानमंत्री’ कार्यक्रम देखता हूं , तारीफ किए बिना रहा नहीं जाता . अभी – अभी मैं वीपी सिंह का दौर , मंडल कमीशन और आडवाणी की रथयात्रा की राजनीति पर ये खास कार्यक्रम देख रहा था . किसी चैनल ने कभी इतना रिसर्च करके राजनीतिक इतिहास पर इतना शानदार कार्यक्रम नहीं बनाया . अच्छी बात ये है कि तथाकथित रेटिंग के डब्बों से इस कार्यक्रम को रेटिंग भी मिलती है . कार्यक्रम के अंत में रेफरेंस के तौर पर किताबों की लंबी लिस्ट देखकर लगा कि हिन्दी टीवी चैनल पर शायद की कभी कोई कार्यक्रम बना हो , जिसके लिए इतना रिसर्च किया गया हो . वीओ , रिसर्च , नाट्य रुपांतरण , स्क्रिप्ट से लेकर हर स्तर पर ये कार्यक्रम देखे जाने लायक है .

कमियां निकालने बैठें तो इसमें भी निकाली जा सकती लेकिन न्यूज चैनल की सीमाओं को जानते हुए मैं सिर्फ तारीफ ही करुंगा . बाकी काम आलोचकों का है . जो हर अच्छी चीज में भी अपने मतलब की चीज निकाल लेते हैं . जाने बगैर कि न्यूज चैनल की सीमाएं क्या हैं . आसाराम और तमाशाराम के इस दौर में एबीपी का ये कार्यक्रम देखा और सराहा जा रहा है . रेटिंग भी मिल रही है . इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है . पत्रकारिता के छात्रों को तो ये कार्यक्रम जरुर देखना चाहिए .

इतिहास में जिसे दिलचस्पी न हो उसे इतिहास बहुत बोझिल लगता है लेकिन इस कार्यक्रम को हर तरह के लोग देख रहे हैं . देखते हुए ऐसा लगता है कि जैसे इतिहास वर्तमान बनकर सामने खड़ा हो गया हो . राजनीतिक इतिहास में दिलचस्पी की वजह से मैंने भी कई बार सोचा था कि अलग बनाया जाए , किया जाए लेकिन वक्त और वजट हमेशा आड़े आया . जो चाहा , कर नहीं सका. तभी इस कार्यक्रम को देखकर ऐसे कार्यक्रम न बना पाने का अफसोस होता है .

रेटिंग न मिलने का जोखिम , जल्दबाजी में कार्यक्रम बनाने की मजबूरी , बजट न होना …सतही रिसर्च …ऐसे बहुत सी वजहें हैं , जिनसे न्यूज चैनल जूझते हैं लेकिन एबीपी ने इस पैमाने को तोड़ा है . ‘आजतक’ ने एबीपी को जवाब देने के लिए शेखर कपूर के मुकाबले कबीर बेदी को खड़ा किया . एक दाढ़ी वाले का जवाब देने के लिए दूसरा दाढ़ी वाला जंग की कहानी लेकर आया . एक – दो हफ्ते रेटिंग में ऊपर भी गया …आजतक वाले भाई लोगों ने आ गए और छा गए जैसा माहौल भी बनाया… पीट दिया भाई पीट दिया , प्रधानमंत्री को पीट दिया जैसे ढ़ोल भी बजाए लेकिन मैदान में टिक नहीं पाए.

पता नहीं आपकी क्या राय है लेकिन राजनीति के उतार – चढ़ाव को समझने के लिए टीवी पर इससे बेहतर कार्यक्रम पहले कभी नहीं बना ….इतिहास को बनते – बिगड़ते देखने वाले लोगों से बातचीत और रिसर्च के आधार पर एक अच्छी कहानी बनाकर पेश करने में ये ‘ प्रधानमंत्री ‘ की टीम सफल रही है . इस कार्यक्रम से जुड़े संजय नंदन , अपूर्व श्रीवास्तव और फ्रेंकलिन निगम , …अंजु जुनेजा और संपादकों को भी एक बार फिर से बधाई …एबीपी की खासियत ये है कि ये चैनल हमेशा एक्सपेरीटमेंट करता रहा है . दूसरे चैनल इसके एक्सपेरीमेंट से प्रेरित होकर नकल करते हैं कई बार …

(स्रोत – एफबी)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

one × 1 =